A Smart Gateway to India…You’ll love it!
WelcomeNRI.com is being viewed in 121 Countries as of NOW.
A Smart Gateway to India…You’ll love it!

छठ पूजा त्यौहार महत्व, इतिहास और व्रत कथा | Chhath Puja Mahatva, History & Katha Vrat Vidhi in Hindi

छठ पर्व या छठ कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी को मनाया जाने वाला एक हिन्दू पर्व है। सूर्योपासना का यह अनुपम लोकपर्व मुख्य रूप से पूर्वी भारत के बिहार, झारखण्ड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल के तराई क्षेत्रों में मनाया जाता है।
धीरे धीरे यह त्यौहार प्रवासी भारतीयों के साथ साथ विश्वभर मे प्रचलित व प्रसिद्ध हो गया है। छठ पर्व की शुरूआत कहां से हुई, कब हुई और क्यों हुई इसके पीछे कई ऐतिहासिक कहानियां प्रचलित हैं।


chhath puja date mahatva katha vrat vidhi history

छठ पूजा के दिन माता छठी की पूजा की जाती हैं, जिन्हें वेदों के अनुसार उषा (छठी मैया) कहा जाता है, जिन्हें शास्त्रों के अनुसार सूर्य देव की पत्नी कहा गया हैं इसलिए इस दिन सूर्य देवता की पूजा का महत्व पुराणों में निकलता हैं। इस पूजा के जरिये भगवान सूर्य का देव को धन्यवाद दिया जाता हैं। सूर्य देव के कारण ही धरती पर जीवन संभव हो पाया हैं, एवम सूर्य देव की अर्चना करने से मनुष्य रोग मुक्त होता हैं. इन्ही सब कारणों से प्रेरित होकर यह पूजा की जाती हैं। इसे खासतौर पर उत्तरप्रदेश, बिहार, झारखण्ड एवम नेपाल में मनाया जाता हैं। यह दिन उत्सव की तरह हर्ष के साथ मनाया जाता हैं।

छठ पूजा दो बार मनाई जाती हैं :

  1. चैती छठ पूजा
  2. कार्तिक छठ पूजा

2017 में कब होती हैं छठ पूजा ? (Chaiti Kartik Chhath Puja 2017 Date)

छठ पूजा कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्ठी को मनाई जाती हैं. यह चार दिवसीय त्यौहार होता हैं जो कि चौथ से सप्तमी तक मनाया जाता हैं. इसे कार्तिक छठ पूजा कहा जाता हैं. इसके आलावा चैत्र माह में भी यह पर्व मनाया जाता हैं जिसे चैती छठ पूजा कहा जाता हैं।

यह छठ पूजा इस वर्ष 2017 में 26 अक्टूबर, दिन गुरुवार को मनाई जाएगी।

कार्तिक छठ पूजा 2017 में कब है? (Kartik Chhath Puja 2017 Date)

तारीख दिन छठ पूजा का शुभ मुहूर्त तिथि
24 अक्टूबर 2017 मंगलवार नहाय खाय चतुर्थी
25 अक्टूबर 2017 बुधवार लोहंडा और खरना पंचमी
26 अक्टूबर 2017 गुरुवार संध्या अर्घ्य षष्ठी
27 अक्टूबर 2017 शुक्रवार उषा अर्घ्य, परना दिन सप्तमी

कार्तिक चैती छठ पूजा महत्व (Chhath Puja Importance)

इसका महत्व उत्तर भारत में सबसे अधिक हैं, कहा जाता हैं भगवान राम जब माता सीता से स्वयंबर करके घर लौटे थे और उनका राज्य अभिषेक किया गया था. उसके बाद उन्होंने पुरे विधान के साथ कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्ठी को पुरे परिवार के साथ पूजा की थी. तब ही से इस पूजा का महत्व हैं।

महाभारत काल में जब पांडव ने भी अपना सर्वस्व गँवा दिया था। तब द्रोपदी ने इस व्रत का पालन किया वर्षो तक इसे नियमित करने पर पांडवों को उनका सर्वस्व मिला था। इस प्रकार यह व्रत पारिवारिक खुशहाली के लिए किया जाता हैं।

छठ पूजा कथा व इतिहास (Chhath Puja Katha and History)

इसका बहुत अधिक महत्व होता हैं। इस दिन छठी माता की पूजा की जाती हैं और छठी माता बच्चो की रक्षा करती हैं। इसे संतान प्राप्ति की इच्छा से किया जाता हैं। इसके पीछे के पौराणिक कथा हैं :

छठ पूजा से जुड़ी कुछ कहानियों

राजा प्रियंवद की कहानी: कहते हैं राजा प्रियवंद को कोई संतान नहीं थी राजा इससे बहुत दुखी थे। महर्षि कश्यप उनके राज्य में आये। राजा ने उनकी सेवा की महर्षि ने आशीर्वाद दिया जिसके प्रभाव से रानी गर्भवती हो गई लेकिन उनकी संतान मृत पैदा हुई जिसके कारण राजा रानी अत्यंत दुखी थे जिस कारण दोनों ने आत्महत्या का निर्णय लिया। उसी वक्त मानस पुत्री देवसेना प्रकट हुईं और उन्होंने राजा प्रियंवद से कहा कि वो सृष्टि की मूल प्रवृति के छठे अंश से उत्पन्न हुई हैं और इसी कारण वो षष्ठी कहलातीं हैं। उन्होंने राजा प्रियंवद से उनकी पूजा करने और दूसरों को पूजा के लिए प्रेरित करने को कहा। जिसके बाद राजा प्रियंवद ने पुत्र इच्छा के कारण देवी षष्ठी का व्रत किया और उन्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। तभी से छठ पूजा पूत्रोंं की दीर्घ आयु के लिए मनायी जाती है।

भगवान राम और लंका विजय से जुड़ी कहानी: छठ पूजा से जुड़ी एक अन्य कहानी प्रचलित है जिसके मुताबिक विजयादशमी के दिन लंकापति रावण के वध के बाद दिवाली के दिन भगवान राम अयोध्या पहुंचे। रावण वध के पाप से मुक्त होने के लिए भगवान राम ने ऋषि-मुनियों की सलाह से राजसूर्य यज्ञ किया। इस यज्ञ के लिए अयोध्या में मुग्दल ऋषि को आमंत्रित किया गया। मुग्दल ऋषि ने मां सीता को कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को सूर्यदेव की उपासना करने की सलाह दी। इसके बाद मां सीता मुग्दल ऋषि के आश्रम में रहकर छह दिनों तक सूर्यदेव भगवान की पूजा की थी। इसके बाद से ही यह पर्व मनाया जाता है।

योद्धा कर्ण और माता कुंती से जुड़ी कहानी: एक मान्यता के अनुसार छठ पर्व की शुरुआत महाभारत काल में हुई थी। जिसकी शुरुआत सबसे पहले सूर्यपुत्र कर्ण ने सूर्य की पूजा करके की थी। कर्ण भगवान सूर्य के परम भक्त थे और वो रोज घंटों कमर तक पानी में खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य देते थे। सूर्य की कृपा से ही वह महान योद्धा बने। आज भी छठ में अर्घ्य दान की यही परंपरा प्रचलित है। छठ पर्व के बारे में एक कथा और भी है। इस कथा के मुताबिक जब पांडव अपना सारा राजपाठ जुए में हार गए तब दौपदी ने छठ व्रत रखा था। इस व्रत से उनकी मनोकामना पूरी हुई थी और पांडवों को अपना राजपाठ वापस मिल गया था। लोक परंपरा के मुताबिक सूर्य देव और छठी मईया का संबंध भाई-बहन का है। इसलिए छठ के मौके पर सूर्य की आराधना फलदायी मानी गई।

छठ पूजा व्रत विधि (Chhath Puja Vrat Vidhi)

यह पर्व चार दिन का होता हैं. बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता हैं। इसे उत्तर भारत में सबसे बड़ा त्यौहार मानते हैं। इसमे गंगा स्नान का महत्व सबसे अधिक होता हैं। यह व्रत स्त्री एवम पुरुष दोनों करते हैं. यह चार दिवसीय त्यौहार हैं जिसका माहत्यम कुछ इस प्रकार हैं :

छठ पूजा का स्वरूप

1 नहाय खाय यह पहला दिन होता हैं. यह कार्तिक शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से शुरू होता हैं. इस दिन सूर्य उदय के पूर्व पवित्र नदियों का स्नान किया जाता हैं इसके बाद ही भोजन लिया जाता हैं जिसमे कद्दू खाने का महत्व पुराणों में निकलता हैं.

2 लोहंडा और खरना यह दूसरा दिन होता हैं जो कार्तिक शुक्ल की पंचमी कहलाती हैं. इस दिन, दिन भर निराहार रहते हैं. रात्रि में खिरनी खाई जाती हैं और प्रशाद के रूप में सभी को दी जाती हैं. इस दिन आस पड़ौसी एवम रिश्तेदारों को न्यौता दिया जाता हैं.
3 संध्या अर्घ्य यह तीसरा दिन होता हैं जिसे कार्तिक शुक्ल की षष्ठी कहते हैं. इस दिन संध्या में सूर्य पूजा कर ढलते सूर्य को जल चढ़ाया जाता हैं जिसके लिए किसी नदी अथवा तालाब के किनारे जाकर टोकरी एवम सुपड़े में देने की सामग्री ली जाती हैं एवम समूह में भगवान सूर्य देव को अर्ध्य दिया जाता हैं. इस समय दान का भी महत्व होता हैं. इस दिन घरों में प्रसाद बनाया जाता हैं जिसमे लड्डू का अहम् स्थान होता हैं.
4 उषा अर्घ्य यह अंतिम चौथा दिन होता हैं. यह सप्तमी का दिन होता हैं. इस दिन उगते सूर्य को अर्ध्य दिया जाता हैं एवम प्रसाद वितरित किया जाता हैं. पूरी विधि स्वच्छता के साथ पूरी की जाती हैं.

छठ व्रत के नियम (Chhath Puja Vrat Rules)

यह चार दिवसीय व्रत बहुत कठिन साधना से किया जाता हैं। इसे हिन्दू धर्म में सबसे बड़ा व्रत कहा जाता हैं जो चार दिन तक किया जाता हैं। इसके कई नियम होते हैं :

  1. इसे घर की महिलायें एवम पुरुष दोनों करते हैं.
  2. इसमें स्वच्छ एवम नए कपड़े पहने जाते हैं जिसमे सिलाई ना हो जैसे महिलायें साड़ी एवम पुरुष धोती पहन सकते हैं.
  3. इन चार दिनों में व्रत करने वाला धरती पर सोता हैं जिसके लिए कम्बल अथवा चटाई का प्रयोग कर सकता हैं.
  4. इन दिनों घर में प्याज लहसन एवम माँस का प्रयोग निषेध माना जाता हैं.

इस त्यौहार पर नदी एवम तालाब के तट पर मैला लगता हैं। इसमें छठ पूजा के गीत गाये जाते हैं। जहाँ प्रसाद वितरित किया जाता हैं। इस त्यौहार में सूर्य देव को पूजा जाता हैं। इसके आलावा सूर्य पूजा का महत्व इतना अधिक किसी पूजा में नहीं मिलता। इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण भी हैं, कहते हैं छठी के समय पर धरती पर सूर्य की हानिकारक विकिरण आती हैं। इससे मनुष्य जाति को कोई प्रभाव न पड़े इसलिए नियमो में बाँधकर इस व्रत को संपन्न किया जाता हैं। इससे मनुष्य स्वस्थ रहता हैं।

कार्तिक छठ की तरह ही चैती अथवा चैत्री छठ मनाया जाता हैं। बस तिथी में अन्तर होता हैं। दोनों ही पूजा में सूर्य देव की पूजा की जाती हैं।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार छठ देवी सूर्य देव की बहन हैं और उन्हीं को प्रसन्न करने के लिए भगवान सूर्य की अराधना की जाती है। इस दिन सूर्य की भी पूजा की जाती है। माना जाता है जो व्यक्ति छठ माता की इन दिनों पूजा करता है छठ माता उनकी संतानों की रक्षा करती हैं।

Tags:- chhath puja, छठ पूजा त्यौहार, छठ पूजा महत्व, छठ पूजा इतिहास, छठ पूजा व्रत कथा, chhath puja tyohar, chhath puja vrat katha, chhath puja mehatv, chhath puja in hindi, छठ पूजा, kartik chaiti chhath puja, chhath puja date, chhath puja mahatva, chhath puja katha, chhath puja vrat vidhi, chhath puja history in hindi, bihar tyohar, bihari tyohar, chhath, chhath pooja, chhath pooja ka mehatv, chhath puja, Surya pooja, surya puja, tyohar, vrat katha.

A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):