A Smart Gateway to India…You’ll love it!
WelcomeNRI.com is being viewed in 121 Countries as of NOW.
A Smart Gateway to India…You’ll love it!
You are Here : Home » Ajab Gajab News » अब भारत में बिना किसी बाहरी मदद के बनेंगे 10 परमाणु रिएक्टर, पढ़े इसके फायदे

अब भारत में बिना किसी बाहरी मदद के बनेंगे 10 परमाणु रिएक्टर, पढ़े इसके फायदे

water reactors in india

नई दिल्ली: कैबिनेट ने एक अहम फैसले में देश में परमाणु ऊर्जा की उत्पादक क्षमता बढ़ाने के लिए एक अहम प्रस्ताव को मंज़ूरी दे दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में तय किया गया कि भारत में अब 10 नए प्रेस्राइज्ड हेवी वाटर रिएक्टर्स (पीएचडब्लूआर) का निर्माण किया जाएगा. भारत इन केंद्रों को बिना किसी बाहरी मदद के अपने बूते स्थापित करेगा.

फिलहाल देश में 22 न्यूक्लियर पावर प्लांट कार्य कर रहे हैं जिनसे कुल 6780 मेगावाट परमाणु ऊर्जा पैदा होती है. सरकार के मुताबिक 2021-22 तक 6700 मेगावाट परमाणु ऊर्जा पैदा करने के लिए निर्माण कार्य फिलहाल जारी है. कैबिनेट के फैसले के बाद अब 7000 मेगावाट की अतिरिक्त परमाणु ऊर्जा पैदा करने का प्रस्ताव है.

सरकार को उम्मीद है कि इससे देश में स्थानीय न्यूक्लियर इंडस्ट्री को बढ़ावा मिलेगा और परमाणु ऊर्जा की पैदावार आने वाले सालों में बढ़ेगी. इन 10 नए प्रेस्राइज्ड हेवी वाटर रिएक्टर्स को 'मेक इन इंडिया' के फ्लैगशिप प्रोजेक्ट के तौर पर विकसित करने की तैयारी है. इस फैसले से करीब 33,400 नौकरियां पेदा होने का अनुमान है.

क्या है पीएचडब्लूआर : भारत में लगाए गए तमाम परमाणु ऊर्जा संयंत्र इसी तकनीक के आधार पर लगाए गए हैं। इसमें प्राकृतिक यूरेनियम को मुख्य ईधन के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है जबकि हेवी वाटर को पूरी प्रक्रिया में एक संचालक या कूलेंट के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। भारत इस तकनीक से 700 मेगावाट क्षमता तक बिजली बनाने का संयंत्र लगा सकता है।

Tags: 10 pressurised heavy water reactors, Piyush Goyal, PHWR, Nuclear Energy, Power Generation, water reactors in india

You may be intrested in


A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):