A Smart Gateway to India…You’ll love it!
WelcomeNRI.com is being viewed in 121 Countries as of NOW.
A Smart Gateway to India…You’ll love it!
You are Here : Home » Ajab Gajab News » Diwali 2018: जानें लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि, पढ़े क्‍या है दिवाली का महत्‍व

Diwali 2018: जानें लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि, पढ़े क्‍या है दिवाली का महत्‍व!

diwali subh muhurat

नई दिल्ली: भारत के त्योहारों में दीपावली काफी विशिष्ट स्थान रखती है. इस त्योहार के अवसर पर घरों और दूकानों को सजाया-संवारा जाता है, उनकी साफ-सफाई की जाती है. इस दिन धन की देवी लक्ष्मी की पूजा विशेष रुप से की जाती है. हिन्दू धर्म के अनुसार दीपावली के दिन धन की देवी महालक्ष्मी के साथ विघ्न-विनाशक श्री गणेश की देवी मातेश्वरी सरस्वती देवी की भी पूजा-आराधना की जाती है. कहा जाता है कि कार्तिक मास की अमावस्या की आधी रात में देवी लक्ष्मी धरती पर आती हैं और हर घर में जाती हैं. जिस घर में स्‍वच्‍छता और शुद्धता होती है वह वहां निवास करती हैं.

5 दिनों का है ये त्योहार : दीपावली तीनों पर्वों का मिश्रण है, ये हैं- धनतेरस, नरक चतुर्दशी और महालक्ष्मी पूजन. नरक चतुर्दशी को छोटी दीवाली भी कहा जाता है. दीपावली की शुरूआत धनतेरस से होती है, जो कार्तिक मास की अमावस्या के दिन पूरे चरम पर आती है. कार्तिक मास की अमावस्या की रात को घरों और दुकानों में दीपक, मोमबत्तियां और बल्ब लगाए और जलाए जाते हैं.

महत्‍वपूर्ण तिथियां

  • धनतेरस: 5 नवम्बर 2018
  • छोटी दीवाली: 6 नवम्बर 2018
  • दिवाली: 7 नवम्बर 2018
  • गोवर्धन पूजा: 8 नवम्बर 2018
  • भाईदूज: 9 नवम्बर 2018

पूजा की विधि

किसी भी मंगल कार्य या पूजन को शुरू करने से पहले श्री गणेश का पूजन किया जाता हैं. भगवान गणेश को स्नान कराएं. वस्त्र अर्पित करें. गंध, पुष, अक्षत अर्पित करें. अब देवी लक्ष्मी का पूजन शुरू करें. माता लक्ष्मी की चांदी, पारद या स्फटिक की प्रतिमा का पूजन से भी उत्तम फल की प्राप्ति होती है. जिस मूर्ति में माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है. उसे अपने पूजा घर में स्थान दें. मूर्ति में माता लक्ष्मी आवाहन करें. आवाहन यानी कि बुलाना. माता लक्ष्मी को अपने घर बुलाएं. माता लक्ष्मी को अपने अपने घर में सम्मान सहित स्थान दें. अब माता लक्ष्मी की मूर्ति को स्नान कराएं. स्नान पहले जल से फिर पंचामृत से और दोबारा जल से स्नान कराएं.

अब माता लक्ष्मी को वस्त्र अर्पित करें. वस्त्रों के बाद आभूषण पहनाएं. अब पुष्पमाला पहनाएं. सुगंधित इत्र अर्पित करें. अब कुमकुम तिलक करें. अब धूप व दीप अर्पित करें. माता लक्ष्मी को गुलाब के फूल विशेष प्रिय है. बिल्वपत्र और बिल्व फल अर्पित करने से भी महालक्ष्मी की प्रसन्नता होती है. 11 या 21 चावल अर्पित करें. श्रद्धानुसार घी या तेल का दीपक लगाएं. देवी लक्ष्मी की पूजा के ल‌िए दीपक की बाती का रंग लाल होना चाहिए दीपक को दायीं ओर रखें। दीपक बायीं ओर नहीं रखना चाह‌िए. आरती करें. आरती के पश्चात् परिक्रमा करें. अब नेवैद्य अर्पित करें. महालक्ष्मी पूजन के दौरन ’’ऊँ महालक्ष्मयै नमः’’इस मंत्र का जप करते रहें.

दिवाली पूजा और दिवाली शुभ मुहूर्त

इस दिन पूरा दिन ही शुभ माना जाता है. इस दिन किसी भी समय पूजन कर सकते हैं लेकिन प्रदोष काल से लेकर निशाकाल तक समय शुभ होता है. जो इस दिन बही बसना पूजन करने हैं उनको ही राहु काल का विचार करना चाहिए, जो लोग सिर्फ गणेश लक्ष्मी जी का पूजन करें उनको विचार नहीं करना चाहिए, क्योंकि अमावस्या तिथि पर राहु काल का दोष नहीं होता.

अमावस्या तिथि प्रारंभ- 6 नवम्बर 2018 रात 10:03 बजे, अमावस्या तिथि समाप्त- 7 नवम्बर 2018 रात 9:32 बजे,

मुहूर्त समय

प्रातः 8 बजे से 9:30 बजे तक प्रातः 10:30 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक दोपहर 1:30 बजे से सायंकाल 6 बजे तक सायंकाल 7:30 बजे से रात्रि 12:15 बजे तक

स्थिर लग्न

वृष सायंकाल 6:15 से रात्रि 8:05 तक सिंह रात्रि 12:45 से 02:50 तक वृश्चिक प्रातः 8:10 से 9:45 तक कुम्भ दोपहर 01:30 से 03:05 तक

दीपावली का महत्व

14 वर्ष के वनवास के बाद भगवान राम अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ अयोध्या लौटने का प्रतीक है दिवाली. अपने पिता राजा दशरथ के आदेश के बाद भगवान राम 'वनवास' के लिए गए थे. इस दौरान उन्‍होंने भारत के जंगलों और गांवों में 14 साल बिताए. अपने वनवास के अंत में दस मुखी लंका के राजा रावण ने सीता का अपहरण कर लिया था. इसके बाद भगवान राम ने रावण से युद्ध किया और रावण को मारकर अपनी पत्‍नी को लेकर वापिस अयोध्‍या लौटे. महाकाव्य रामायण में भगवान राम की जीत बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है.

Tags: choti diwali, choti diwali 2018, deepawali, Deepawali 2018, Deepawali Shubh muhurat, Deepawali Shubh muhurat 2018, diwali 2018, diwali date, deepavali festival, diwali 2018 calendar, significance of diwali, dhanteras, diwali subh muhurat

You may be intrested in

A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):