A Smart Gateway to India…You’ll love it!

WelcomeNRI.com is being viewed in 124 Countries as of NOW.
आप यहां हैं : होम » अजब-ग़ज़ब खबरें » आखिर कैसे रुकेंगे महिलाओं के साथ होने वाले शोषण?, इन्हें पढ़कर इंसानियत भी शर्मा जाये

आखिर कैसे रुकेंगे महिलाओं के साथ होने वाले शोषण?, इन्हें पढ़कर इंसानियत भी शर्मा जाये (Women molested in presence of cops in India)

Women molested in presence of cops in India

एक वक्त था जब नारी को हम देवी के रुप में पूजते थे लेकिन आज आलम कुछ ऐसा है कि महिलाओं की इज्जत को सरे आम निलाम किया जाता, उनकी आबरू तार-तार की जाती है। हाल के दिनों में पूरे देश में महिलाओं पर यौन हिंसा सहित विभिन्न तरह के अत्याचार के मामले काफी हद तक बढ़ गए हैं।

'यत्र नार्युस्त पुज्ययंति तत्र रमति देवता'। एक वक्त था जब नारी को हम देवी के रुप में पूजते थे लेकिन आज आलम कुछ ऐसा है कि महिलाओं की इज्जत को सरे आम निलाम किया जाता, उनकी

हाल ही मैं IT सिटी बैंगलोर में न्यू ईयर ईव शर्मसार होने के बाद एक बार फिर इस मुद्दे पर विवाद होना शुरू हो गया। फिर आजकल तो मुद्दे ट्रेंड करते ही हैं। ऐसे ही ट्विटर और अन्य सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर महिलाओं के शोषण का मुद्दा एक बार फिर ट्रेंड करने लगा है।

कुछ पुरुषों ने #NotAllMen हैशटैग से पुरुषों की वकालत करना शुरू कर मुद्दे का रूख ही मोड़ दिया। फिर अपना दम दिखाते कुछ महिलाएं आगे आईं, और उन्होने #YesAllWomen हैशटैग के साथ उनके साथ हुए अत्याचारों की घटनाओं को शेयर किया। यह सभी घटनाएं बहुत ही शर्मनाक और हृदयविदारक हैं। जो समाज का घिनौना और निर्दयी चेहरा सामने लाती हैं।    

इन्हें पढ़कर इंसानियत भी शर्मा जाये

चलती बस में अगर भीड़ हो तो कुछ पुरुषों के लिए यह एक मौके की तरह होता है

हर औरत, हाँ हर औरत, हर एक दिन रेप, छेड़छाड़, यौन उत्पीड़न के डर से जीती है

अब तो उम्मीद के आसरे भी सुरक्षित नहीं, तुम्ही बताओ कोई कैसे अब किसी पर आँखे बंद कर विश्वास कर पाए

बात सड़कों या सुनसान इलाकों की नहीं, बात तो दिमाग में भरे कचरे की है

लड़के की बात तो बाद में ही होती है, सबसे पहले तो लड़की के कैरेक्टर पर ही उंगली उठती है

सोशल मीडिया बन रहा है कुछ मर्दों के लिए नया हथियार

शाम का अँधेरा महिलाओं के लिए वाकई अँधेरा होता है, और 'इंसानियत', ये किस खेत की मूली है? कोई बताये जरा

शाम का अँधेरा महिलाओं के लिए वाकई अँधेरा होता है, और 'इंसानियत', ये किस खेत की मूली है? कोई बताये जरा

'सेफ सिटी' अब तक तो एक सपना ही है, हकीकत कब होगी कौन जाने

जो ठहराते हैं कमसिन उम्र को इसका दोषी, वो जान लें कि बच्चे से बूढ़े सभी इसका शिकार है

लड़की अकेली देखी नहीं कि सारे के सारे 'रोमियो-राँझा' बन जाते हैं

Women molested in presence of cops in India

Keywords : women empowerment, woman, लड़कियों का शोषण, शोषण की घटनाये, women molestation in India, Female abuse in India, women share their molestation experience, महिलाओं के कानूनी अधिकार, महिला आधिकार, rights for women


A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):