A Smart Gateway to India…You’ll love it!
WelcomeNRI.com is being viewed in 121 Countries as of NOW.
A Smart Gateway to India…You’ll love it!

विश्व तंबाकू (धूम्रपान) निषेध दिवस 31 मई, तंबाकू को कहें 'ना' | World No Tobacco Day – 31st May


international-environment-day

“क्यों तू अपनी जिंदगी को बर्बाद करता है,  क्यों धूम्रपान की लत को आबाद करता है!
और भी है काम घनेरे जिनको तू कर ले प्राणी, मोल  तेरा होगा तभी गर सपने  तू साकार करता है!!”

पूरे विश्व के लोगो को तम्बाकू के खतरों से बचाने के लिए और सभी लोग तम्बाकू के खतरों के प्रति सचेत रहे इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए विश्व स्वास्थ्य संघटन / World Health Organization (WHO) के स्थापना दिवस पर पहली बार विश्व स्वास्थ्य संघटन के कुछ सदस्यों द्वारा विश्व तम्बाकू निषेध दिवस / World No Tobacco Day का शुभारम्भ किया गया फिर आगे चलकर 31 मई 1987 को पहली बार पूरे विश्व में World No Tobacco Day का आयोजन हुआ जिसके बाद हर साल पूरे विश्व के अलग अलग देशो में World No Tobacco Day मनाया जाने लगा।.. …

विश्व तंबाकू निषेध दिवस 2017 | World No Tobacco Day in Hindi

पूरे विश्व के लोगों को तंबाकू मुक्त और स्वस्थ बनाने के लिये तथा सभी स्वास्थ्य खतरों से बचाने के लिये तंबाकू चबाने या धुम्रपान के द्वारा होने वाले सभी परेशानियों और स्वास्थ्य जटिलताओं से लोगों को आसानी से जागरुक बनाने के लिये पूरे विश्व भर में एक मान्यता-प्राप्त कार्यक्रम के रुप में मनाने के लिये विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा पहली बार विश्व तंबाकू निषेध दिवस को आरम्भ किया गया।

रोग और इसकी समस्याओं से पूरी दुनिया को मुक्त बनाने के लिये डबल्यूएचओ द्वारा विभिन्न दूसरे स्वास्थ्य संबंधी कार्यक्रम भी आयोजित किये जाते हैं जैसे एड्स दिवस, मानसिक स्वास्थ्य दिवस, रक्त दान दिवस, कैंसर दिवस आदि। बहुत ही महत्वपूर्ण ढंग से पूरी दुनिया में सभी कार्यक्रम आयोजित और मनाये जाते हैं। इसे पहली बार 7 अप्रैल 1988 को डबल्यूएचओ की वर्षगाँठ पर मनाया गया और बाद में हर वर्ष 31 मई को तंबाकू निषेध दिवस के रुप में मनाने की घोषणा की गयी। डबल्यूएचओ के सदस्य राज्यों के द्वारा वर्ष 1987 में विश्व तंबाकू निषेध दिवस के रुप में इसका सृजन किया गया था।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस

पूरे विश्व से किसी भी रुप में तंबाकू का सेवन पूरी तरह से रोकने या कम करने के लिये लोगों को बढ़ावा देने और जागरुकता के विचार से इसे मनाया जाता है। दूसरों पर इसकी जटिलताओं के साथ ही तंबाकू इस्तेमाल के नुकसानदायक प्रभाव के संदेश को फैलाने के लिये वैश्विक तौर पर लोगों का ध्यान खींचना इस उत्सव का लक्ष्य है। इस अभियान में कई वैश्विक संगठन शामिल होते हैं जैसे राज्य सरकार, सार्वजनिक स्वास्थ्य संगठन आदि विभिन्न प्रकार के स्थानीय लोक जागरुकता कार्यक्रम आयोजित करते हैं।

डबल्यूएचओ एक मुख्य संस्था है जो पूरे विश्व में विश्व तंबाकू निषेध दिवस को आयोजित करने के लिये एक केन्द्रिय हब के रुप में कार्य करती है। तंबाकू उपभोग को घटाने में इस अभियान के लिये पूरी सक्रियता और आश्चर्यजनक रुप से अपना योगदान देने वाले विभिन्न संगठनों और व्यक्तित्वों को बढ़ावा देने के लिये डबल्यूएचओ द्वारा 1988 से पुरस्कार समारोह भी आयोजित किया जाता है जो इस पुरस्कार समारोह के दौरान किसी भी देश और क्षेत्र के संगठनों और व्यक्तियों को खास अवार्ड और पहचान सर्टिफिकेट प्रदान किया जाता है।

विश्व तम्बाकू निषेध दिवस कैसे मनाया जाता है ?

31 May को विश्व स्वास्थ्य संघटन / World Health Organization (WHO) के देखरेख में हर साल World No Tobacco Day मनाया जाता है अलग अलग देशो में सार्वजनिक जगहों पर मार्च, प्रदर्शनी, झंडे बैनर द्वारा लोगो को जागरूक किया जाता है कुछ देश की सरकारे भी इस कार्यक्रम में बढ़कर चढ़कर हिस्सा लेती है लोगो द्वारा नाट्य मंचन, तम्बाकू से होने वाले नुकसानों पर विचार विमर्श, भाषण का भी आयोजन किया जाता है जिसमे लोगो को तम्बाकू से होने वाले नुकसानों को बताया जाता है तथा साथ लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहे सजग रहे लोग अपना ख्याल रखे तथा दुसरो को भी लोग इसके बुरे परिणामो से सचेत करते रहे, World No Tobacco Day मनाने का मुख्य यही मकसद होता है।

तंबाकू के सेवन से हर वर्ष 10 में कम से कम एक व्यक्ति की मौत जरुर हो जाती है जबकि पूरे विश्व भर में 1.3 बिलियन लोग तंबाकू का इस्तेमाल करते हैं। 2020 तक 20-25% तंबाकू के इस्तेमाल को घटाने के द्वारा हम लगभग 100 मिलीयन लोगों की असामयिक मृत्यु को नियंत्रित कर सकते हैं। जो कि सभी धुम्रपान विरोधी प्रयासों और कदमों को लागू करने के द्वारा मुमकिन है जैसे तंबाकू के लिये टीवी या रेडियो विज्ञापन पर बैन लगाया जाये, खतरों को दिखाते नये और प्रभावकारी लोक जागरुकता अभियान की शुरुआत और सार्वजनिक जगहों में धुम्रपान को रोकने की जरुरत है। आँकड़ों के अनुसार, ये ध्यान देने योग्य है कि 1995 में लगभग 37.6% धुम्रपान करने वाले लोगों की संख्या में कमी आयी है जबकि 2006 में ये 20.8% है।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर डबल्यूएचओ द्वारा उठाये गये कदम

विश्व स्तर पर विभिन्न दूसरे स्वास्थ्य जागरुकता अभियानों और विश्व तंबाकू निषेध दिवस कहे जाने वाले कार्यक्रम के स्थापना के द्वारा तंबाकू या इसके उत्पादों के इस्तेमाल को रोकने या घटाने में डबल्यूएचओ ने कई कदम उठाये हैं। तंबाकू सेवन नहीं करने की ओर डबल्यूएचओ के द्वारा कुछ खास कदम उठाये गये जो यहाँ दिये गये है वो इस प्रकार है -

  • तंबाकू के इस्तेमाल को छोड़ने या कम करने के लिये पूरे विश्व में तंबाकू इस्तेमाल करने वालो को जागरुक और निवेदन करने के लक्ष्य को लेकर इसके 40वीं वर्षगाँठ पर 1988 में 7 अप्रैल को “विश्व तंबाकू निषेध दिवस” कहे जाने वाले एक कार्यक्रम को मनाने के लिये 1987 में डबल्यूएचए40.38 के नाम से डबल्यूएचओ ने प्रस्ताव पास किया था।
  • हर वर्ष 31 मई को वार्षिक तौर पर विश्व तंबाकू निषेध दिवस कहे जाने वाले एक कार्यक्रम को मनाने के लिये 1988 में डबल्यूएचए42.19 कहे जाने वाले एक दूसरे प्रस्ताव को डबल्यूएचओ ने पास किया था। विभिन्न कार्यक्रमों और तंबाकू संबंधित विषयों को आयोजित करने के द्वारा इसने भी उत्सव को समर्थन दिया।
  • तंबाकू इस्तेमाल के वैश्विक स्वास्थ्य समस्याओं की ओर लोगों का ध्यान खींचने के साथ ही अंतरराष्ट्रीय संसाधनों पर ध्यान केन्द्रित करने के लक्ष्य लिये 1998 में तंबाकू मुक्त पहल (टीएफआई) के नाम से एक दूसरे कार्यक्रम की स्थापना डबल्यूएचओ ने की थी। प्रभावशाली तंबाकू नियंत्रण के लिये वैश्विक तौर पर लोगों के लिये स्वास्थ्य नीतियों को बनाने में इसने मदद की है, समाज में लोगों को प्रोत्साहन दिया है आदि।
  • तंबाकू के अंत के लिये नीतियों को लागू करने के समझौते के रुप में 2003 में वैश्विक तौर पर स्वीकार किया गया एक दूसरा सार्वजनिक स्वास्थ्य संधि डबल्यूएचओ एफसीटीसी है।
  • “तंबाकू मुक्त युवा” लक्ष्य का निर्माण करने के द्वारा 2008 में विश्व तंबाकू निषेध दिवस की संध्या पर डबल्यूएचओ ने तंबाकू विज्ञापन, प्रायोजन और प्रचार पर बैन घोषित किया था।

तंबाकू का सेवन छोड़ने के लिए सुझाव:

तंबाकू छोड़ना बहुत मुश्किल है; आख़िरकार निकोटीन अत्यधिक नशे की आदत वाला पदार्थ होता है, लेकिन आप इसे उचित दृष्टिकोण के माध्यम से छोड़ सकते हैं। इस आदत को छोड़ने के लिए आपको अत्यधिक धैर्य और दृढ़ इच्छा शक्ति की आवश्यकता होती है। यह आदत एक दिन में नहीं जाएगी, लेकिन अंत में धीरे-धीरे छूट जाएगी।

यदि आप तंबाकू छोड़ना चाहते हैं, लेकिन आप भ्रमित हैं कि यह कैसे करें? तो आप स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (स्वा.प.क.मंत्रा.) के एम-एमसेसेशन कार्यक्रम से जुड़ें।

कोई भी तंबाकू छोड़ने वाला इच्छुक उपयोगकर्ता रजिस्ट्रेशन के लिए 011-22901701 पर मिस कॉल कर सकता है। आप http://www.nhp.gov.in/quit-tobacco के माध्यम से अपना मोबाइल नंबर और ई मेल आईडी भरकर भी ई-रजिस्टर कर सकते हैं। इसके बाद, दो एसएमएस की प्रक्रिया शुरू होती है, जिसमें पंजीकृत उपयोगकर्ता को राष्ट्रीय इन्फोरमेटिक्स केंद्र आवंटित शॉर्ट कोड अर्थात् 5616115 के माध्यम से स्वागत योग्य क्वेट नॉओ एसएमएस भेजा जाएगा। आपको अधिक से अधिक एसएमएस भेजे जायेगें, जिनमें से कुछ में आपसे जबाब देने का अनुरोध किया जाएगा।

उन चीजों से परहेज करें जिनसे तंबाकू सेवन को बढ़ावा मिलता हो। कॉफी ब्रेक या ड्राइव करते समय इस बात का खास ख्याल रखें।

योजना बनाकर काम करें : अगर आपने तंबाकू छोड़ने का फैसला कर ही लिया है तो इसके लिए एक सही योजना बनाएं। अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव लाएं। मेडिटेशन सेंटर जाएं, निकोटिन रिप्लेसमेंट मेडिकेशन लें। जो भी योजना आपके अनुरूप हो, उसका पालन करें।

खुद को व्यस्त रखें : खुद को व्यस्त रखें। कोशिश करें कि जब भी बाहर खाने जाएं स्मोक फ्री रेस्टोरेंट में ही जाएं। खुद को हर समय व्यस्त रखने की कोशिश करें। लोगों के साथ समय बिताएं, पानी पीते रहें, मूवी देखने जाएं। खुद को व्यस्त रखने से तंबाकू की तरफ आपका ध्यान कम जाएगा।

धूम्रपान करने वाले लोगों को होने वाली परेशानियां:

  • ऐसे लोगों को भूख नहीं लगती
  • सांस लेने में दिक्कत होती है
  • सीने में दर्द की परेशानी बनी रहती है
  • नींद अच्छी तरह पूरी नहीं होती
  • तनाव रहता है
  • गले संबंधित परेशानियां भी होती है
  • हमेशा थका हुआ शरीर महसूस होता है.
  • तंबाकू खाने वाले लोग थोड़ा सा भी मिर्च-मसाला नहीं खा सकते. मसालेदार खाना खाने से उनके मुंह में छाले बन जाते हैं. जो ज्यादा लंबे समय तक रहने पर कैंसर का रूप ले सकते हैं.

तम्बाकू की लत के कारण / Cause of tobacco addiction in Hindi

कभी दूसरों की देखा देखी, कभी बुरी संगत मे पडकर कभी मित्रो के दबाब में, कई बार कम उम्र मेँ खुद को बडा दिखाने की चाहत में तो कभी धुएँ के छ्ल्ले उडाने की ललक,कभी फिल्मों मे अपने प्रिय अभिनेता को धूम्रपान करते हुए देखकर तो कभी पारिवारिक माहौल का असर तम्बाकू उत्पादों की लत का कारण बनता है। अधिकतर लोग किशोरावस्था या युवावस्था मेँ दोस्तोँ के साथ सिगरेट, गुट्खा, जर्दा, आदि का शौकिया रूप मेँ सेवन करते है शौक कब आदत एवँ आदत लत मे बदल जाती है पता ही नहीं चलता और जब तक पता चलता है तब तक शरीर को बहुत नुक्सान पहुँच चुका होता है।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस थीम

विश्व तंबाकू निषेध दिवस को पूरे विश्व भर में प्रभावशाली तरीके से मनाने के लिये, अधिक जागरुकता के लिये लोगों में एक वैश्विक संदेश फैलाने के लिये केन्द्रिय अंग के रुप में हर साल एक खास विषय का डबल्यूएचओ चुनाव करता है। विश्व तंबाकू निषेध दिवस के उत्सव को आयोजित करने वाले सदस्यों को इस विषय पर दूसरे प्रचारक वस्तुएँ जैसे ब्रौचर, पोस्टर, फ्लायर्स, प्रेस विज्ञप्ति, वेबसाइट्स आदि भी डबल्यूएचओ के द्वारा उपलब्ध कराया जाता है।

1987 से लेकर 2014 के विषय (थीम) वर्ष के आधार पर दिये गये हैं:

  • वर्ष 1987 का थीम था “प्रथम धुम्रपान रहित ओलंपिक (1988 ओलंपिक शीत ऋतु- कैलगैरी)।”
  • वर्ष 1988 का थीम था “तंबाकू या स्वास्थ्य: स्वास्थ्य को चुनें।”
  • वर्ष 1989 का थीम था “तंबाकू और महिलाएँ: महिला धुम्रपान करने वाली: जोखिम को बढ़ाती हुयी।”
  • वर्ष 1990 का थीम था “बचपन और युवा बिना तंबाकू के: बिना तंबाकू के बड़ा होना।”
  • वर्ष 1991 का थीम था “सार्वजनिक स्थल और परिवहन: तंबाकू मुक्त बेहतर होता है।”
  • वर्ष 1992 का थीम था “तंबाकू मुक्त कार्यस्थल: सुरक्षित और स्वास्थ्यकर।”
  • वर्ष 1993 का थीम था “स्वास्थ्य सेवा: एक तंबाकू मुक्त विश्व लिये हमारी खिड़की।”
  • वर्ष 1994 का थीम था “मीडिया और तंबाकू: संदेश को सभी ओर भेजो।”
  • वर्ष 1995 का थीम था “आपकी सोच से ज्यादा होता है तंबाकू की कीमत।”
  • वर्ष 1997 का थीम था “तंबाकू मुक्त विश्व के लिये एकजुट हों।”
  • वर्ष 1998 का थीम था “तंबाकू के बिना बड़ा होना।”
  • वर्ष 1999 का थीम था “डिब्बे को पीछे छोड़ो।”
  • वर्ष 2000 का थीम था “तंबाकू मारता है, बेवकूफ मत बनो।”
  • वर्ष 2001 का थीम था “दूसरों से प्राप्त धुँआ मारता है।”
  • वर्ष 2002 का थीम था “तंबाकू मुक्त खेल।”
  • वर्ष 2003 का थीम था “तंबाकू मुक्त फिल्म, तंबाकू मुक्त फैशन।”
  • वर्ष 2004 का थीम था “तंबाकू और गरीबी, एक पापमय वृत।”
  • वर्ष 2005 का थीम था “तंबाकू के खिलाफ स्वास्थ्य पेशेवर।”
  • वर्ष 2006 का थीम था “तंबाकू: किसी भी रुप या वेश में मौत।”
  • वर्ष 2007 का थीम था “अंदर से तंबाकू मुक्त।”
  • वर्ष 2008 का थीम था “तंबाकू मुक्त युवा।”
  • वर्ष 2009 का थीम था “तंबाकू स्वास्थ्य चेतावनी।”
  • वर्ष 2010 का थीम था “महिलाओं के लिये व्यापार पर जोर के साथ लिंग और तंबाकू।”
  • वर्ष 2011 का थीम था “तंबाकू नियंत्रण पर डबल्यूएचओ रुपरेखा सम्मेलन।”
  • वर्ष 2012 का थीम था “तंबाकू उद्योग हस्तक्षेप।”
  • वर्ष 2013 का थीम था “तंबाकू के विज्ञापन, प्रोत्साहन और प्रायोजन पर बैन।”
  • वर्ष 2014 का थीम था “तंबाकू पर ‘कर’ बढ़ाओ।”
  • वर्ष 2015 का थीम था “तंबाकू उत्पादों के अवैध व्यापार को रोकना।”

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर कथन

  • “तंबाकू छोड़ना इस दुनिया का सबसे आसान कार्य है। मैं जानता हूँ क्योंकि मैंने ये हजार बार किया है।”- मार्क तवैन
  • “तंबाकू मारता है, अगर आप मर गये, आप अपने जीवन का बहुत महत्वपूर्ण भाग खो देंगे।”- ब्रुक शील्ड
  • “तंबाकू का वास्तविक चेहरा बीमारी, मौत और डर है- ना कि चमक और कृत्रिमता जो तंबाकू उद्योग के नशीली दवाएँ बेचने वाले लोग हमें दिखाने की कोशिश करते हैं।”-डेविड बिर्न
  • “ज्यादा धुम्रपान करना जीवित इंसान को मारता है और मरे सुअर को बचाता है।”- जार्ज डी प्रेंटिस
  • “सिगरेट छोड़ने का सबसे अच्छा तरीका है तुरंत इसको रोकना- कोई अगर, और या लेकिन नहीं।”- एडिथ जिट्लर
  • “सिगरेट हत्यारा होता है जो डिब्बे में यात्रा करता है।”- अनजान लेखक
  • “तंबाकू एक गंदी आदत है जैसे कथन के लिये मैं समर्पित हूँ।”- कैरोलिन हेलब्रुन

31 मई को तम्बाकू निषेध दिवस / World No Tobacco Day मनाया जाता है आइये इस अवसर पर हम संकल्प लें कि खुद भी नशा नही करेंगे और अन्य लोगो को भी नशा ना करने के लिये प्रोत्साहित करेंगे।

जहाँ इच्छा होती है, वहां रास्ता होता है। यदि आपने तंबाकू छोड़ने का दृढ़ संकल्प लिया हैं, तो आपकी इच्छा का प्रबंधन करने के लिए यहाँ कुछ उपाय हैं। आइए, संकल्प लें कि हम स्वयं धूम्रपान एवं तंबाकू का सेवन नहीं करेंगे और दूसरों को भी न करने के लिए प्रेरित करेंगे।

तो दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें ! अब आप हमें Facebook पर Follow कर सकते है !  क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

Good luck

You may be intrested in

A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):