A Smart Gateway to India…You’ll love it!
WelcomeNRI.com is being viewed in 121 Countries as of NOW.
A Smart Gateway to India…You’ll love it!

भारत और चीन की सैन्य ताकत की तुलना 2017, भारत अब नहीं है कमजोर | India vs China Armed Forces Power Comparison


क्या है भारत चीन डोकाला सीमा विवाद, जानिए…

india-vs-china-armed-forces-power-comparison-hindi

भारत अपने सभी पड़ोसी देशों में सैन्य शक्ति को देखते हुए सबसे मजबूत है। सिर्फ भारतीय उपमहाद्वीप ही नहीं, पूरी दुनिया में भारतीय सेना का डंका बजता है। आइए नजर डालते हैं भारत बनाम चीन की सैन्य ताकत पर.. …

भारत और चीन के बीच तनाव जारी है. चीन ने भारत ने 1962 युद्ध से सबक लेने की सलाह दी. भारत ने भी जवाबी हमला बोल दिया.. सैन्य साजो सामान के साथ तकनीक के मामले में भारत की क्षमता में लगातार इजाफा हो रहा है।

आज के तकनीकी युग में यह तो मानना ही पड़ेगा की तमाम उन्नत हथियार कहीं ना कहीं किसी भी देश के हार या जीत में ज्यादा से ज्यादा योगदान दे रहे हैं जैसे अमेरिका के ड्रोन विमान । भारत और चीन दोनों ही तेजी से उभरते हुए एशियाई देश है एवं चीन की आक्रामक नीति एवं 1962 मैं भारत को मिली करारी हार के कारण भारत हमेशा से रक्षात्मक मुद्रा में रहा है और साथ ही साथ तेजी से अपनी रक्षात्मक गतिविधियों में भी आगे बढ़ा है।

आज के समय में यदि देखा जाए तो चाइना एवं भारत दोनों विकासशील देशों के लिए युद्ध की विभीषिका भयानक सिद्ध होगी परंतु फिर भी यदि चाइना अपनी आक्रामक नीति से बाज नहीं आता है तो फिर भारत को भी माकूल जवाब देने के लिए तैयार रहना चाहिए..

हिंदी-चीनी भाई भाई का राग अलापने वाले चीनी नेताओं ने 1962 में भारत की पीठ में खंजर भोंक दिया। विकास की सड़क पर भारत अपनी यात्रा को आगे बढ़ा रहा था। शांतिपूर्ण सहअस्तित्व में विश्वास करने वाले नेहरू को चीन इतने बड़े विश्वासघात की उम्मीद नहीं थी। लेकिन 2017 में भारत काफी हद तक बदल चुका है।

चीन के पास सबसे ज़्यादा 22,85,000 लड़ाकू सैनिक हैं। भारत के पास 13,25,000 सैनिक हैं, चीन के पास 1,669 लड़ाकू विमान हैं। इनमें जे-11, जे-10, सुखोई-30 और जेएच-7 जैसे फाइटर प्लेन शामिल हैं। जबकि भारत के पास करीब 1,380 लड़ाकू विमान हैं। जिनमें सुखोई, मिराज, मिग-29, मिग-27, मिग-21 और जगुआर शामिल हैं।

मिसाइलों की बात करें तो चीन के पास 13 हज़ार किलोमीटर रेंज वाली डांग फेंग-5 और इसी सीरीज की दूसरी मिसाइलें हैं। भारतीय सेना के बेड़े में सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस, अग्नि, पृथ्वी, आकाश और नाग जैसे मिसाइल हैं। पाजानकारों का कहना है कि ब्रह्मोस की तकनीक सबसे आधुनिक है और इसे 5 मिनट में दागने के लिए तैयार किया जा सकता है। ब्रह्मोस ने भारत की ताकत बढ़ाई है। युद्वपोत के मामले में चीन के पास 75 युद्धपोत हैं, तो भारत के पास 27 युद्धपोत हैं। चीन के पास 150 से 200 परमाणु हथियार हैं। भारत के पास 50 से 90 परमाणु हथियार हैं।

चीन ऐसा क्यों करता है ?

पिछले कुछ महीनों में भारत और चीन के रिश्ते खराब हुए हैं। सीपीइसी को लेकर भारत पहले ही अपना ऐतराज कर चुका है। हाल ही में बीजिंग में वन बेल्ट, वन रोड पर आयोजित बैठक में भारत की गैरमौजूदगी चीन को नागवार लगा। इसके अलावा अमेरिका और भारत की बढ़ती नजदीकी से चीन असहज महसूस कर रहा है। हिंदमहासागर में भारत और अमेरिका की सक्रियता से भी चीन नाराज है। लेकिन चीन की ये आदत बन चुकी है कि जब कोई देश उसकी हरकतों के खिलाफ आवाज उठाता है तो चीन यह दिखाने के लिए अपनी गतिविधियां तेज कर देता है। कि वो देश किस हद तक उसका मुकाबला करने के लिए तैयार है।

भूटान के जिस इलाके को लेकर चीन, युद्ध करने की धमकी दे रहा है, वो इलाका सामरिक तौर पर तीनों देशों के लिए महत्वपूर्ण है। चीन अपनी बात रखने के लिए 1890 के समझौते का हवाला दे रहा है। लेकिन उसने 1988 और 1989 में भूटान के साथ समझौता किया था जिसमें चीन ने उस इलाके को भूटान का हिस्सा माना। भारत और भूटान के बीच रिश्ते घनिष्ठ हैं। इसलिए जब चीन ने डोकलाम इलाके में सड़क बनानी शुरू की को भारत की तरफ से आपत्ति जताई गई। भूटान के जिस इलाके को लेकर चीन, युद्ध करने की धमकी दे रहा है, वो इलाका सामरिक तौर पर तीनों देशों के लिए महत्वपूर्ण है। चीन अपनी बात रखने के लिए 1890 के समझौते का हवाला दे रहा है। लेकिन उसने 1988 और 1989 में भूटान के साथ समझौता किया था जिसमें चीन ने उस इलाके को भूटान का हिस्सा माना। भारत और भूटान के बीच रिश्ते घनिष्ठ हैं। इसलिए जब चीन ने डोकलाम इलाके में सड़क बनानी शुरू की को भारत की तरफ से आपत्ति जताई गई।

भारत-चीन की सैन्य शक्ति देखें तुलना | Comparison of Indian & chinese Military Power in Hindi

इससे आप अंदाजा जरूर लगा सकते हैं की चीन और भारत की सैन्य ताकत की तुलना क्या है..

CHINA vs INDIA MILITARY MANPOWER

India China
Total Population: 1,251,695,584 1,367,485,388
Manpower Available: 616,000,000 750,000,000
Fit-for-Service: 489,600,000 619,000,000
Reaching Military Age Annually: 22,900,000 19,550,000
Active Military Personnel: 1,325,000 2,335,000
Active Military Reserves: 2,143,000 2,300,000
inida-vs-china-army-compare

CHINA vs INDIA AIR POWER

India China
Aircraft (All Types): 2,086 2,942
Helicopters: 646 802
Attack Helicopters: 19 200
Attack Aircraft (Fixed-Wing): 809 1,385
Fighter Aircraft: 679 1,230
Trainer Aircraft: 318 352
Transport Aircraft: 857 782
Serviceable Airports: 346 507
inida-vs-china-air-compare

CHINA vs INDIA GROUND MILITARY

India China
Tank Strength: 6,464 9,150
AFV Strength: 6,704 4,788
SPG Strength: 290 1,710
Towed Artillery: 7,414 6,246
MLRS Strength: 292 1,770

CHINA vs INDIA NAVAL POWER

India China
Merchant Marine Strength: 340 2,030
Major Ports / Terminals: 7 15
Fleet Strength: 295 714
Aircraft Carriers: 2 1
Submarines: 14 68
Frigates: 14 48
Destroyers: 10 32
Corvettes: 2b 2b
Mine Warfare Craft: 6 4
Patrol Craft: 135 138

CHINA vs INDIA FINANCIAL

India China
External Debt (USD): $459,100,000,000 $949,600 000 000
Annual Defense Budget (USD): $40,000,000,000 $155,600,000,000
Reserves Foreign Exchange / Gold (USD): $370,700,000,000 $3,217,000;000,000
Purchasing Power Parity: $7,411,000,000,000 $18,090,000,000,000

CHINA vs INDIA LOGISTICAL

India China
Labor Force: 492,400,000 804;200,000
Roadway Coverage (km): 3,320,410 km 3,860,800 km
Railway Coverage (km): 63,974 km 86,000 km
Waterway Coverage (km): 14,500 km 110,000 km
Waterway Coverage (km): 14,500 km 110,000 km
Coastline Coverage (km): 7,000 km 14,500 km
Shared Borders (km): 13,888 km 22,457 km
Square Land Area (km): 3,287,263 km 9,596,961 km

CHINA vs INDIA RESOURCES

India China
Oil Production (Barrels/Day): 767,600 bbl 4,189,000 bbl
Oil Consumption (Barrels/Day): 3,510,000 bbl 10,120,000 bbl
Proven Oil Reserves (Barrels/Day): 5 “675000 ‘000 bbl 24,650,000;000 bbl

भारत की ताकत बढ़ी

सैन्य साजो सामान के साथ तकनीक के मामले में भारत की क्षमता में लगातार इजाफा हो रहा है। चीन के पास अगर एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम है तो रूस से भारत इसी तरह का सिस्टम खरीद रहा है। हवा से हवा और जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल, लड़ाकू विमान के मामले में भारत ने प्रगति की है।

भारत के लिए चिंता की वजह

  • पाक सीमा पर लगातार तनाव की वजह से चीन के साथ संघर्ष करना आसान नहीं।
  • एनएसजी की सदस्यता हासिल करने के लिए चीन का समर्थन जरूरी
  • चीन के मुकाबले सैन्य क्षमता में कमी।

चीन की मजबूरी

  • मौजूदा समय में चीन दक्षिण चीन सागर समेत कई मोर्चों पर घिरा हुआ है।
  • चीन के लिए अहम भारतीय बाजार
  • ताइवान और तिब्बत मुद्दे पर चीन को नए दुश्मनों का सामना करना पड़ सकता है।
  • झिंगझियांग प्रांत में चीन अलगाववादियों का सामना करना पड़ रहा है।
  • चीन की वन बेल्ट, वन रोड की योजना पर असर पड़ सकता है।
  • दोनों देशों के बीच तनाव की वजह से भारत के साथ व्यापारिक रिश्तों पर असर पड़ेगा।

कोई भी युद्ध हथियारों से नहीं जीता जाता है अपितु तमाम कुशल रणनीतियों के साथ-साथ सैनिकों की वीरता,पराक्रम और बलिदान ज्यादा महत्वपूर्ण होते हैं। जैसा की हमने मेजर शैतान सिंह, अब्दुल हमीद और अरुण क्षेत्रपाल जैसे लोगों में देखा है।

हथियारों की संख्या के मामले में हो सकता है कि भारत चीन से बराबरी कर रहा हो या थोड़ा पीछे हो परंतु चीन के साथ युद्ध होने पर पूरी तरह से माकूल जवाब देने के लिए भारत ने एक जबरदस्त रक्षा रणनीति तैयार कर ली है और हमारे देश के सैनिकों के पराक्रम और वीरता के आगे चीन के तमाम उन्नत तकनीकी हथियार भी बेकार साबित होंगे | हमें भूलना नहीं चाहिए की पाकिस्तान के साथ युद्ध में उनके अजेय माने जाने वाले पैंटन और साइमन टैंकों का हमारे वीरों ने क्या हाल किया था !!! जय हिंद।

तो दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें! अब आप हमें Facebook पर Follow कर सकते है !  क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

Good luck

You may be intrested in

A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):