A Smart Gateway to India…You’ll love it!
WelcomeNRI.com is being viewed in 121 Countries as of NOW.
A Smart Gateway to India…You’ll love it!

भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग के बारे में जानकारी ( Rashtriya Rajmarg ) | The Complete Detail of National Highways in India


national-highway-in-india

यातायात और आवागमन की सुविधाओं को बढ़ाने के साथ ही विभिन्न राज्यों को जोड़ने के लिए राज्यमार्ग बनाये गए है। भारत में राष्ट्रीय राजमार्ग का जो बहुत बड़ा नेटवर्क है उसको जिस एजेंसी के द्वारा संभाला जाता है उसका नाम है भारत की केंद्रीय सरकार। …

भारत में राष्ट्रीय राजमार्ग | National highway in India in hindi

सड़के हमारे जीवन को सुगम बना देती है। मुख्यतः यह सड़के 2 लेन की होती है। जून 2016 तक 10,00,087 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग से अधिक इन राज्यमार्गों को कम से कम 1,000 किलोमीटर बढाने का लक्ष्य रखा गया था, साथ ही इसको सभी प्रमुख शहरों और राज्य की राजधानियों से भी जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है। इनमे से 26,200 किलोमीटर को 2 लेन और कम से कम 50,000 किलोमीटर को 4 लेन के साथ जोड़ा गया है। भारत सरकार 2017 से प्रतिदिन देश में 30 किलोमीटर जोकि साल में 11,000 किलोमीटर राजमार्ग का निर्माण करने के लिए संकल्पित है। साथ ही अब नए निर्माण में बिटुमिन की जगह सीमेंट और कंक्रीट का उपयोग किया जाएगा, जिससे राजमार्ग जल्दी क्षतिग्रस्त नहीं होंगे। भारत में लगभग कुल राष्ट्रीय राजमार्ग की लम्बाई 70,548 किलोमीटर है।

भारत में सड़कों के नेटवर्क की कुल लम्बाई 46.90 लाख किलोमीटर है जो की दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सड़क नेटवर्क है। नेटवर्क को 5 वर्गों में विभाजित किया गया है, जो निम्नलिखित है- एक्सप्रेस वे, राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएचएस), राज्य मार्ग (एसएचएस), ग्रामीण सडक और अन्य। भारत में राष्ट्रीय राजमार्ग ग्रेड सड़कों पर है, जिनको हम एक्सप्रेस हाईवे के नाम से जानते है. यह हाईवे ज्यादातर 6 लेन की होती है। जहाँ प्रवेश और निकास शामिल होते है. राष्ट्रीय राजमार्ग या राजमार्ग को नियंत्रित करने के लिए सड़क पर्ची का उपयोग किया जाता है। राजमार्गों पर गति ज्यादातर अनियंत्रित होती है जिस वजह से ये पैदल चालक और साइकिल चलाकों के लिए खतरनाक होते है। राष्ट्रीय राजमार्ग ने देश में आर्थिक विकास को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है कई शहरों के साथ व्यापार राजमार्गो के माध्यम से ही होता है। राजमार्गों पर कई सारे ढाब्बा है जो राजमार्गीय लम्बाई के साथ ही बहुत लोकप्रिय है उसमे वह वहा के स्थानीय व्यंजन की सेवा लोगों को प्रदान करते है।

राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) (National highway authority of India)

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण का गठन किया गया था संसद के एक अधिनियम के द्वारा, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण अधिनियम, 1988 । यह के लिए उत्तरदायी विकास, रख-रखाव तथा प्रबंधन के राष्ट्रीय राजमार्ग को सौंपे गए विषयों के लिए है और वह या उसके आनुषंगिक विषयों से जुड़ा है।

यह एक राष्ट्रीय एजेंसी है जो राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण, उन्नयन को बनाये रखने के लिए कटिबद्ध है. यह प्राधिकरण सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के तहत चलाया जाता है. यह प्राधिकरण राजमार्ग विकास, रखरखाव और टोल संग्रह के लिए निजी और सार्वजनिक साझेदारी मॉडल का उपयोग करता है. राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना राजमार्गो के नेटवर्क को विस्तारित और अपग्रेड करने के लिए एक प्रमुख प्रयास है.

भारत में राष्ट्रीय राजमार्ग मुख्यतः 2 लेन में है जिनको अब 4 लेन में विस्तारित किया जा रहा है. साथ ही कुछ को 6 या उससे अधिक लेन में भी विस्तारित किया जा रहा है. भारत में 1.7% राष्ट्रीय राजमार्गो का निर्माण होता है, जिनमे से 40% तक सड़क परिवहन का उपयोग और यातायात का वहन करते है अर्थात सड़कों का निर्माण कम होता है, लेकिन उनका दोहन अर्थात उनकी निर्माण की अपेक्षा ज्यादा इस्तेमाल होता है जोकि सड़कों को जल्द ही बंजर बना देता है. सड़क मार्ग से लगभग 60% तक की माल ढुलाई होती है और 87% तक यात्री यातायात करते है. इन सड़क नेटवर्क का कुछ हिस्सा टोल सडक का भी है. 2011 में एनएचडीपी के निर्माण के लिए 30,000 किलोमीटर से अधिक नए राजमार्गों की योजना बनाई गयी है, जिनमे से निर्माण के तहत 26,000 किलोमीटर एक्सप्रेस वे शामिल है. सरकार दिसम्बर 2014 से यह सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है कि राष्ट्रीय राजमार्ग जोकि अब तक एकल सड़क थी, उनको दो या दो से अधिक गली सड़कों के साथ जोड़ा जाये. भारत के यातायात नियम यहाँ पढ़ें.

राजमार्गों के लिए नई नंबर प्रणाली (Numbering system for highways)

28 अप्रैल 2010 से भारत सरकार सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने राष्ट्रीय राज मार्ग के लिए नई व्यवस्थित संख्या को अपनाया है, इससे दिशा प्रणाली को समझना आसान होगा. इसे दिशा और भौगोलिक आधार पर बांटा गया है. सभी उत्तर- दक्षिण को सम संख्या के माध्यम से, पूर्व- पश्चिम को विषम संख्या, उत्तर से दक्षिण तक के मेजर राजमार्ग को एकल नम्बर या दोहरे नम्बर से इंगित किया गया है. दुसरे स्रोत के मुख्य मार्ग के लिए तिहरे अंक का इस्तेमाल किया जाता है. भारत का दूसरा सबसे उच्चा मोटर हाईवे लेन मनाली राजमार्ग कश्मीर में शिमला से लेन को जोड़ता है.

भारत में वर्तमान राजमार्ग विकास (Highway development in India)

राष्ट्रीय राजमार्ग अधिनियम 1956 के अनुसार राजमार्गों के रखरखाव और निर्माण के लिए इसमें निजी निवेश भी प्रदान किया जा सकता है. किसी भी तरह की यातायात में रूकावट या ट्रैफिक से बचने के लिए बड़े शहरों के बीच में बाइपास बनाये गये है. भारत के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने बड़े पैमाने पर राजमार्ग का उन्नयन करने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना का शुभारंभ किया, जोकि उत्तर-दक्षिण और पूर्व के चार महानगरों दिल्ली, मुंबई, चेन्नई और कोलकाता मे पुरी तरह से पक्की और 4 लेन के सड़क निर्माण और शहरों को जोड़ने का कार्य किया. वाजपेयी जी सरकार के कार्यकाल 1997 और 2002 के बीच 23,814 किलोमीटर सड़क नेटवर्क का विस्तार हुआ, जोकि आजादी के बाद सबसे बड़ा राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण था. जबकि यूपीए की सरकार के 2004 से 2014 के बीच 18,000 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण हुआ था.

भारत में 10 सबसे चर्चित मुख्य राष्ट्रीय राजमार्गों के नाम (Top 10 National highways in India)

भारत में लगभग 228 तक राष्ट्रीय राजमार्गों की संख्या है जिनमे से राष्ट्रीय राजमार्ग 31, राष्ट्रीय राजमार्ग 2 और 1 को ग्रांड ट्रंक रोड भी कहा जाता है. एनएच 1 में जवाहर सुरंग स्थित है. एनएच 1 और एनएच 7 एक दुसरे को नागपुर में पार करते है, इसके अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग 3, राष्ट्रीय राजमार्ग 4, राष्ट्रीय राजमार्ग 5, राष्ट्रीय राजमार्ग 6, सबसे लम्बी राष्ट्रीय राजमार्ग 7, राष्ट्रीय राजमार्ग 8, राष्ट्रीय राजमार्ग 15, राष्ट्रीय राजमार्ग 17 भी है. यह भारत के दस सबसे लम्बी राष्ट्रीय राजमार्ग की सूची में शामिल है जोकि 2017 की नई सूची में अब तक अपनी जगह बनाये हुए है. यह राजमार्ग देश के बड़े बड़े शहरों को जोड़ने में सफल रहा है, साथ ही इस वजह से विभिन्न राज्य के परिवहन कार्य को सुगम बना दिया है.

भारत में 10 सबसे चर्चित मुख्य राष्ट्रीय राजमार्गों के नाम (Top 10 National highways in India)

इसके अलावा जो सबसे कम कम लम्बाई का राष्ट्रीय राजमार्ग है वो है एनएच 47 ए यह राजमार्ग जो कि कोच्ची वेलिंगटन आइलैंड से होकर गुजरती है. यह केरल राज्य में है इसकी लम्बाई मात्र 6 किलो मीटर तक है. एनएच 39 राष्ट्रीय राजमार्ग को म्यांमार का लाइफलाइन कहा जाता है.

भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों के नाम, यात्रा मार्ग एवं राज्य में कुल लंबाई की सूची (Indian National Highway List in Hindi)

भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों में से कुछ को नीचे प्रदर्शित किया जा रहा है –

क्रमांक संख्या राजमार्ग के नाम मार्ग राज्य जिनसे होकर गुजरती है कुल लम्बाई
1 . एनएच 1 दिल्ली-अंबाला- लुधियाना अमृतसर- इंडो पाक दिल्ली, हरियाणा और पंजाब 456 किलोमीटर
2. एनएच 1 बी बटोटे-डोका-किस्तवार –स्य्म्थान पास –खानाबल जम्मू और कश्मीर 274 किलोमीटर
3. एनएच 1 ए जालन्धर –माधोपुर –जम्मू बनिहाल –श्रीनगर बारामुला –उरी पंजाब, हिमाचल प्रदेश और जम्मू कश्मीर 663 किलोमीटर
4. एनएच 1 सी दोमेल – कटरा जम्मू और कश्मीर 8 किलोमीटर
5. एनएच 1 डी श्रीनगर –कारगिल –लेह जम्मू और कश्मीर 422 किलोमीटर
6. एनएच 2 ए सिकंदरा –भोगनीपुर उत्तर प्रदेश 25 किलोमीटर
7. एनएच 4 ए बेल्गौम –अनमोद –पोंडा –पणजी कर्नाटका और गोवा 153 किलोमीटर
8. एनएच 4 बी न्हावा शेवा –कालाम्बोली –पल्स्पे महाराष्ट्र 27 किलोमीटर
9. एनएच 5 ए हरिदासपुर परदिप पोर्ट जंक्शन से उड़ीसा 77 किलोमीटर
10. एनएच 7 ए पलायाकोत्तई –तूतीकोरिन पोर्ट तमिलनाडु 51 किलोमीटर
11. एनएच 8 ए अहमदाबाद –लिम्ब्दी –मोर्वी –कांदला मांडवी गुजरात 473 किलोमीटर
12. एनएच 8 बी बमंबोरी –राजकोट –पोरबंदर गुजरात 206 किलोमीटर
13. एनएच 8 सी चिलोडा –गांधीनगर –सरखेज गुजरात 46 किलोमीटर
14. एनएच 8 डी जेतपुर – सोमनाथ गुजरात 127 किलोमीटर
15. एनएच 8 इ सोमनाथ –भावनगर गुजरात 220 किलोमीटर
16. एनएच नम्बर एनईआई अहमदाबाद –बड़ोदरा एक्सप्रेसवे गुजरात 93 किलोमीटर
17. एनएच 9 पुणे-सोलापुर –हैदराबाद –विजयवाड़ा मचिलिपत्नाम महाराष्ट्र, कर्नाटका और आंध्रप्रदेश 841 किलोमीटर
18. एनएच 10 दिल्ली –फाजिल्का –इंडो –पाक बॉर्डर दिल्ली, हरियाणा, पंजाब 403 किलोमीटर
19. एनएच 11 आगरा –जयपुर –बीकानेर उत्तर प्रदेश, राजस्थान 582 किलोमीटर
20. एनएच 12 जबलपुर –भोपाल –खिलचीपुर –अक्रेला –झालवार –कोटा –बूंदी –डेविल –टोंक –जयपुर मध्य प्रदेश और राजस्थान 890 किलोमीटर
21. एनएच 13 सोलापुर –छत्तीसगढ़ -शिह्मोंग –मंगलोर महाराष्ट्र और कर्नाटक 691 किलोमीटर
22. एनएच 14 बेवर –सिरोही –राधापुर राजस्थान और गुजरात 450 किलोमीटर
23. एनएच 15 पठानकोट –अमृतसर –भटिंडा –गंगानगर –बीकानेर –जैसलमेर –बारमेर –समखाली पंजाब, राजस्थान और गुजरात 1526 किलोमीटर
24. एनएच 16 निज़ामाबाद-मचेरिअल –भोपल्पत्नाम –जगदलपुर आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र और छतीसगढ़ 460 किलोमीटर
25. एनएच 17 पनवेल –महाद –पणजी –कारवार –उडुपी –सुरत्कल –मंगलौर –कान्नानोरे –कोज्हिकोड़े –फ़रोख –पुदु –पोंनामी –चोव्घट –कन्नूर महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक और केरला 1269 किलोमीटर
26. एनएच 24 दिल्ली –मोरादाबाद –बरेली –लखनऊ दिल्ली और उत्तर प्रदेश 438 किलोमीटर
27. एनएच 39 नामुलिगढ़-इम्फाल –पलेल –इंडो बर्मा बॉर्डर आसाम, नागालैंड और मणिपुर 436 किलोमीटर
28. एनएच 43 रायपुर –जग्दलपुर –विज़िअनगरम छतीसगढ़, उड़ीसा और आंध्रप्रदेश 551 किलोमीटर
29. एनएच 44 शिलोंग –पस्सी –बदरपुर –अगरतला –सबरूम मेघालय, आसाम और त्रिपुरा 630 किलोमीटर
30. एनएच 45 चेन्नई –ताम्ब्रम –तिन्दिवानाम विल्लुपुरम –त्रिउचिलापल्ली –मनाप्परै –डिंडीगुल –पेरियाकुलम –थेनी तमिलनाडु 472 किलोमीटर
31. एनएच 47 सालेम –इरोड –कोइम्ब्तोर –पलघट –त्रिचुर –एर्नाकुलम –कुइलों –त्रिवेंद्रम- नागेर्कोइल –कन्याकुमारी केरला, तमिलनाडु 640 किलोमीटर
32. एनएच 54 दबका –लुमडिंग –सिलचर –ऐजवल –तुइपंग आसाम और मिजोरम 850 किलोमीटर
33. एनएच 58 दिल्ली –गाजियाबाद –मीरुत –हरिद्वार –बद्रीनाथ –मन पस उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड 538 किलोमीटर
34. एनएच 65 अम्बाला –कैथल –हिस्सार –फतेहपुर –जोधपुर हरियाणा और राजस्थान 690 किलोमीटर
35. एनएच 75 ग्वालियर –झाँसी –छतरपुर –रेवा –रेनुकुत –गरवा –डाल्टेनगंज –इल्ल्हाबाद मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, झारखण्ड 995 किलोमीटर
36. एनएच 76 पिन्द्वारा –उदयपुर, मंगलवार-कोटा शिवपुरी –झाँसी –बाँदा –इल्ल्हाबाद मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान 1007 किलोमीटर
37. एनएच 78 कटनी –शहडोल –अंबिकापुर –जशपुरनगर –गुमला मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखण्ड 559 किलोमीटर
38. एनएच 79 अजमेर –नसीराबाद –नीमुच –मंसदपुर –इंदौर मध्य प्रदेश और राजस्थान 500 किलोमीटर
39. एनएच 86 कानपूर –छतरपुर –सागर –भोपाल देवास उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश 674 किलोमीटर
40. एनएच 200 रायपुर-बिलासपुर –रायगढ़ –कनाक्तोरा –झारसुगुडा –कोचिंदा –देवगढ –तालचेर –चाधिखोले उड़ीसा और छतीसगढ़ 740 किलोमीटर
41. एनएच 205 अनंतपुर –रेनिगुनता –चेन्नई आंध्रप्रदेश और तमिलनाडु 442 किलोमीटर
42. एनएच 209 डिंडीगुल –पोल्लाची –पलानी –कोइम्बतोरे –अन्नुर कोल्लेगल -बैंगलोर तमिलनाडु और कर्नाटका 456 किलोमीटर
43. एनएच 217 रायपुर –गोपालपुर छतीसगढ़ और उड़ीसा 508 किलोमीटर
44. एनएच 222 कल्याण –अहमदनगर महाराष्ट्र और आंध्रप्रदेश 610 किलोमीटर
45. एनएच 228 साबरमती आश्रम –नदिय्द – आनंद –सूरत –नवसारी –दांडी गुजरात 374 किलोमीटर
46. एनएच 31 बरही- बख्तियारपुर –मोकामेह –पूर्णिया –दलकोला –सिलीगुड़ी –सेवोक –कोच बिहार –उत्तर सल्मारा –नलबारी –चरिली –अमिन गाँव जंक्शन बिहार, पश्चिम बंगाल, झारखण्ड और आसाम 1125 किलोमीटर
47. एनएच 31 ए सेवोक – गंगटोक पश्चिम बंगाल और सिक्किम 92 किलोमीटर
48. एनएच 31 बी उत्तर सल्मारा –जोगिघोपारा जंक्शन आसाम 19 किलोमीटर
49. एनएच 31 सी गलगलिया –बाघ डोगरा –चल्सा नागरकता –गोयेर्कता –दलगांव –हासीमारा –राजभुत खावा –कोच्गोँ – सिदिली –बिजनी पश्चिम बंगाल और आसाम 235 किलोमीटर
50. एनएच 3 आगरा –ग्वालियर –शिवपुरी –इंदौर –धुले –नासिक –ठाणे –मुम्बई उत्तर प्रदेश, राजस्थान,मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र 1161 किलोमीटर
51. एनएच 4 ठाणे- पुणे –बेलगाम –हुबली –बैंगलोर –कोलर –चित्तूर –रानीपेट –चेन्नई महाराष्ट्रा, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश और तमिलनाडु 1235 किलोमीटर
52. एनएच 5 बहरागोरा –कटक-भुबनेश्वर –विशाखापत्तनम –विजयवाड़ा –गुंटूर –नेल्लोरे –चेन्नई उड़ीसा, आंध्रप्रदेश और तमिलनाडु 1533 किलोमीटर
53. एनएच 6 हजीरा –धुले –नागपुर –रायपुर –संबलपुर –बहरागोरा –कोलकता महाराष्ट्रा, छतीसगढ़, उड़ीसा, झारखंड, पश्चिम बंगाल और गुजरात 1949 किलोमीटर
55. एनएच 7 वाराणसी –मंगवान –रेवा –जबलपुर –लखनदों –नागपुर –हैदराबाद –कुरनूल बैंगलोर –होसुर –कृष्णा गिरी –धर्मापूरी, सालेम –नमक्कल –करुर –डिंडीगुल –मदुरै –विरुदुनगर –त्ररुनेल्वेली –कन्याकुमारी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, कर्नाटका और तमिलनाडु 2369 किलोमीटर
56. एनएच 8 दिल्ली –जयपुर-अजमेर –उदयपुर –अहमदाबाद –वडोदरा –मुंबई दिल्ली, हरियाणा –राजस्थान –गुजरात और महाराष्ट्र 1428 किलोमीटर
57. एनएच 221 विजयवाड़ा –भद्राचलम –जदलपुर आंध्रप्रदेश और छतीसगढ़ 329 किलोमीटर
58. एनएच 219 मदनापल्ले –कुप्पम –कृष्णागिरी आंध्रप्रदेश और तमिलनाडु 150 किलोमीटर
59. एनएच 218 बीजापुर –हुबली कर्नाटक 176 किलोमीटर
60. एनएच 210 त्रिची –पुदुकोट्टई –देवाकोत्तई –रामनाथपुरम तमिलनाडु 160 किलोमीटर
61. एनएच 211 सोलापुर –ओस्मनाबाद –औरंगाबाद –धुले महाराष्ट्र 400 किलोमीटर
62. एनएच 203 भुबनेश्वर –पूरी उड़ीसा 59 किलोमीटर
63. एनएच 201 बोरिगुम्मा –बोलांगीर –बारगढ़ उड़ीसा 310 किलोमीटर
64. एनएच 119 पुरी –नजीबाबाद –मीरुत उतराखंड और उत्तर प्रदेश 260 किलोमीटर
65. एनएच 108 धरास –उत्तरकाशी –यमनोत्री –धाम उतराखंड 127 किलोमीटर
66. एनएच 104 चकिया –सीतामढ़ी –जयनगर –नरहरिया बिहार 160 किलोमीटर
67. एनएच 102 छपरा –रेवाघाट –मुजफ्फरपुर बिहार 80 किलोमीटर
68. एनएच 93 आगरा –अलीगढ –बबराला –चंदौसी –मोरादाबाद उत्तर प्रदेश 220 किलोमीटर
69. एनएच 35 बारासात –बनगांव –इंडो बांग्लादेश बॉर्डर पश्चिम बंगाल 61 किलोमीटर
70. एनएच 54 ए ठेरिअत –लुन्गिएइ मिजोरम 9 किलोमीटर
71. एनएच 55 सिलीगुड़ी –दार्जलिंग पश्चिम बंगाल 77 किलोमीटर
72. एनएच 56 लखनऊ-वाराणसी उत्तर प्रदेश 285 किलोमीटर
73. एनएच 57 मुजफ्फरपुर –दरभंगा –फारबिसगंज –पूर्णिया बिहार 310 किलोमीटर
74. एनएच 59 अहमदाबाद –गोधरा –धार –इन्दौर गुजरात और मध्य प्रदेश 350 किलोमीटर
75. एनएच 60 बालासोर –खरगपुर –आसनसोल उड़ीसा और पश्चिम बंगाल 305 किलोमीटर

भारत का सबसे बड़ा राजमार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग 7 है, जो उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर को भारत के दक्षिणी कोने, तमिलनाडु के कन्याकुमारी शहर के साथ जोड़ता है। इसकी लंबाई 2369 किमी है। सबसे छोटा राजमार्ग ६ किलोमीटर लंबा राष्ट्रीय राजमार्ग 47A है, जो एरनाकुलम को कोची बंदरगाह से जोड़ता है।

राष्‍ट्रीय राजमार्गों के विकास और रखरखाव की जिम्‍मेदारी केंद्र सरकार की है। इस समय राजमार्गों की कुल लंबाई का नेटवर्क 70548 किलोमीटर तक फैला है। सभी राष्‍ट्रीय राजमार्गों के विकास और रखरखाव का कार्य परिवहन मंत्रालय, राज्यों के लोक निर्माण विभाग, भारतीय राष्‍ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण और सीमा सड़क संगठन के माध्‍यम से करती है। देश में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने व्‍यापक राष्‍ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना शुरू की है। राष्‍ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना देश की अब तक की सबसे बड़ी राजमार्ग परियोजना है। इस परियोजना का क्रियान्‍वयन राष्‍ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा किया जा रहा है।

तो दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें ! अब आप हमें Facebook पर Follow कर सकते है !  क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

Jai Hind!

You may be intrested in

A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):