A Smart Gateway to India…You’ll love it!
WelcomeNRI.com is being viewed in 121 Countries as of NOW.
A Smart Gateway to India…You’ll love it!

भारतीय बजट के इतिहास में पहली बार, जानें क्‍या हैं मुख्य बदलाव


things happens with budget 2017

सरकार के इस तीसरे में बजट में तीन खास बातें होगीं, जो इसके पहले किसी बजट में नहीं रहीं। अब आप सोच रहे होंगे कि वो तीन खास बाते क्‍या हैं तो जानने के लिए यहां पढ़ें...

इस बार कुछ अहम बदलाव देखने को मिल रहे हैं. 93 साल में ऐसा पहली बार हो रहा है कि जब रेल बजट अलग पेश नहीं होगा. यही नहीं पहली बार आम बजट फरवरी की आखिरी तारीखों की बजाय 1 फरवरी को पेश होगा. इस बार भी आम लोगों को सरकार से टैक्स में कुछ छूट की उम्मीद है. यही नहीं वित्तमंत्री 50 हजार रुपये से ज्यादा के कैश ट्रांजेक्शन पर टैक्स का ऐलान भी कर सकते हैं.

खर्च एक्‍सपेंडिचर चेंज:

पहली बार ऐसा बजट आ रहा है जिसमें सरकार के खर्चे को एक्‍सपेंडिचर और कैपिटल एक्‍सपेंडिचर में बांटा जाएंगा। इस बार का खर्चा नॉन प्‍लान और प्‍लान कैटेगरी में नहीं बांटा जाएगा।

पॉलिसी मेकर्स को लाभ:

इस कदम से सरकारी खर्चों पर क्‍लासिफिकेशन से सलाना आधार पर तुलना करने में खास मदद मिलेगी। इसका फायदा मंत्रियों, सरकारी कर्मचारियों व अधिकारियों के साथ शिक्षाविदों जैसे पॉलिसी मेकर्स को मिलेगा।

रेल बजट को आम बजट में विलय:

रेल बजट को आम बजट में विलय के लिए राष्ट्रपति ने भारत सरकार (कामकाज का आवंटन) नियम, 1961 में संशोधन को मंजूरी दे दी है. अब आर्थिक मामलों का विभाग दोनों बजट तैयार करेगा. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पिछले साल सितंबर में वित्त वर्ष 2017-18 से रेल बजट को आम बजट में मिलाने के लिए कुछ ऐतिहासिक बजटीय सुधारों को मंजूरी दी थी. रेल बजट को अलग से पेश करने की परंपरा 1924 से शुरू हुई थी.

बजट 1 फरवरी को आएगा:

इतिहास में पहली बार होगा जब आम बजट एक महीने पहले आएगा। अभी तक बजट फरवरी के अंतिम दिन यानी कि 28 और 29 फरवरी को आता था। इस बार यह बजट 1 फरवरी को आएगा।

अगर यह जानकारी आपको पसंद आयी है तो कृपया इसे share अवश्य करे।

You may be intrested in

A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):