A Smart Gateway to India…You’ll love it!
WelcomeNRI.com is being viewed in 121 Countries as of NOW.
A Smart Gateway to India…You’ll love it!

शिक्षक दिवस (5 सितम्बर) पर बधाई सन्देश अनमोल वचन शायरी कविता भाषण व निबंध | Teachers Day (5th September) Quotes Wishes Shayari Poem Speech / Essay


क्या है भारत चीन डोकाला सीमा विवाद, जानिए…

teachers day quotes wishes shayari poem speech essay in hindi

विश्व के कुछ देशों में शिक्षकों (गुरुओं) को विशेष सम्मान देने के लिये शिक्षक दिवस का आयोजन होता है। कुछ देशों में छुट्टी रहती है जबकि कुछ देश इस दिन कार्य करते हुए मनाते हैं। भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन (५ सितंबर) भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। …

कहते हैं कि एक गुरु के बिना किसी भी लक्ष्य तक पहुंच पाना संभव नहीं है. गुरु ही आपको जिंदगी जीने का तरीका और उसमें आने वाली मुश्किलों से लड़ने के बारे में बताता है. यही वजह है कि सैकड़ों साल पहले की कई कहानियां ऐसी हैं जिनमें गुरु और शिष्य के रिश्ते को बड़ी ही खूबसूरती से बयां किया गया है।

हमारे देश में हर साल 5 सितंबर को टीचर्स डे मनाया जाता है. ये दिन भारत के दूसरे राष्ट्रपति और महान शिक्षक डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्‍मदिन के अवसर पर सेलिब्रेट होता है।

शिक्षक दिवस | Teachers Day – 5th September in Hindi

प्रति वर्ष 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस मनाया जाता हैं. इस दिन डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म दिवस होता हैं. उनकी स्मृति में ही उनके जन्मदिन को शिक्षक दिवस का नाम दिया गया हैं।

शिक्षक दिवस पर भाषण / निबंध (Teachers Day Speech / Essay)

भारत में 5 सितम्बर को प्रति वर्ष शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता हैं. वास्तव में यह दिन सर्वपल्ली राधा कृष्णन का जन्म दिवस हैं. इन्होने शिक्षा के क्षेत्र में अभूतपूर्व योगदान दिया इसलिये उनकी स्मृति एवम उनके कार्य को श्रद्धांजलि देते हुए इस दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता हैं।

आज अगर हम राजनीति में राधाकृषण की तरह किसी को देखते तो पहला नाम हमारे ज़हन में डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का आता हैं. इन्होने अपना पूरा जीवन कुछ सीखने और सिखाने में लगाया. वे सदैव खुद को एक शिक्षक के रूप में ही उजागर करते थे और इसी के साथ उन्होंने जीवन से रुक्सत ली।

शिक्षक का कर्तव्य एक सफल शिक्षक वही हैं जिसमे सकारात्मकता हो और जो कभी ना खुद उम्मीद का दामन छोड़े और नाही कभी अपने शिष्य को छोड़ने दे. अगर एक शिक्षक ही उम्मीद ना रखे तो एक शिष्य को कभी जीवन का सही रास्ता नहीं मिल सकेगा क्यूंकि सभी शिष्य एक समान नही हो सकते, सबकी अपनी रूचि, अपनी जिंदगी एवम अपनी एक पारिवारिक सोच हैं. इससे बाहर की दुनियाँ एवम उससे जुड़े सही और गलत रास्तों का चयन एक शिष्य अपने शिक्षक के माध्यम से ही करता हैं।

समाज निर्माण में शिक्षक की भूमिका जैसा कि अनमोल वचन में लिखा हैं एक शिक्षक ही देश भक्त एवम आतंकवादी बना सकता हैं. इस एक लाइन में यही हैं कि शिक्षक ही मार्गदर्शन देता हैं. उसके बताये गये रास्ते पर शिष्य आँख मूंद कर चलता हैं. अगर शिक्षक दिन को रात, रात को दिन कह दे तो एक शिष्य दिन रात यह सुनने के बाद उस असत्य को भी सत्य मान लेता हैं क्यूंकि शिष्य एक कच्ची मिट्टी की तरह हैं. उसे जिस रूप में ढालेंगे वो वही रूप लेलेता हैं. इसी कारण ही एक समाज निर्माण में शिक्षक की भूमिका अहम् होती हैं. शिक्षक एक विशेष उत्तरदायित्व का वहन करता हैं. किसी देश के निर्माण में माता पिता के बाद शिक्षक का विशेष स्थान होता हैं।

सफलता में शिक्षक का महत्व एक व्यक्ति जब सफलता की बुलंदियों को छूता हैं. तब उसी का नाम जगत में उजागर होता हैं. उस ऊँचे पद पर कभी उसका शिक्षक विराजमान नहीं होता लेकिन यह भी सत्य हैं कि बिना शिक्षक के वह व्यक्ति उन ऊँचाई तक नहीं पहुँच सकता था. अत : सफलता में एक शिक्षक का बलिदान मूक बलिदान होता हैं।

अच्छी किताबे एवम अनमोल वचन भी शिक्षक की भांति मनुष्य को राह दिखाते हैं महान व्यक्ति अपने अनुभव के द्वारा कई बाते कह जाते हैं और वे बाते ही एक सफल जीवन की नींव को बनाने में महत्वपूर्ण योगदान देती हैं. रातों रात सफलता किसी के हाथ नहीं आती वास्तव में जो जमीं से आसमा तक खुद के बलबूते पर बढ़ते हैं वही सफल कहलाते हैं और ऐसे लोग ही अपने अनुभव से आने वाली पीढ़ी को ज्ञान देते हैं. जैसे एपीजे अब्दुल कलाम जिन्होंने सदैव खुद को एक शिक्षक के रूप में ही देखना पसंद किया. इनके द्वारा लिखी गई पुस्तके एवम कहे गए अब्दुल कलाम जी के अनमोल वचन सदैव मार्गदर्शन देते हैं।

स्वामी विवेकानंद एक ऐसा नाम जिन्होंने उस वक्त जब देश गुलाम था, देश की ख्याति विदेशो में उज्जवल बनाई. इनका वो एक सफल भाषण आज भी युवा वर्ग के लिए प्रेरणा स्त्रोत हैं. स्वामी विवेकानंद जी ने भी अपने व्यक्तित्व की छाप सभी पर छोड़ी. इनके द्वारा कहे गये अनमोल वचन भी जीवन मार्ग को सही दिशा देते हैं।

इस प्रकार किताबे मनुष्य जाति के लिए शिक्षक की तरह होती हैं लेकिन फिर भी इन किताबो में लिखी बातों का शाब्दिक एवम वास्तविक अर्थ समझना साधारण मनुष्य के बस की बात नहीं होती, इन्हें सही रूप में समझने के लिए एक शिक्षक का होना बहुत आवश्यक हैं।

शिक्षक दिवस पर अनमोल वचन बधाई सन्देश (Teachers Day Quotes Wishes in Hindi)

  • शिक्षक में दो गुण निहित होते हैं – एक जो आपको डरा कर नियमों में बाँधकर एक सटीक इंसान बनाते हैं और दूसरा जो आपको खुले आसमा में छोड़ कर आपको मार्ग प्रशस्त करते जाते हैं.


  • जन्म दाता से ज्यादा महत्व शिक्षक का होता हैं क्यूंकि ज्ञान ही व्यक्ति को इंसान बनाता हैं जीने योग्य जीवन देता हैं.


  • एक शिक्षक किताबी ज्ञान देता हैं, एक आपको विस्तार समझाता हैं एक स्वयं कार्य करके दिखाता हैं और एक आपको रास्ता दिखाकर आपको उस पर चलने के लिए छोड़ देता हैं ताकि आप अपना स्वतंत्र व्यक्तित्व बना सके. यह अंतिम गुण वाला शिक्षक सदैव आपके भीतर प्रेरणा के रूप में रहता हैं जो हर परिस्थिती में आपको संभालता हैं आपको प्रोत्साहित करता हैं.


  • आज के प्रतिस्पर्धा के समय में आपका विरोधी ही आपका सबसे अच्छा शिक्षक हैं.


  • एक बेहतर शिक्षक सफलता का चढ़ाव नहीं अपितु असफलता का ढलान हैं.


  • जो असफल होकर निचे गिरते हैं वास्तव में वही शिक्षित होते हैं क्यूंकि जब वे वापस अपना नया रास्ता बनाते हैं उन्हें आतंरिक भय नहीं सताता.


  • किसी शिष्य को उसके वास्तविक गुणों एवम अवगुणों से उसका परिचय करवाना ही एक सच्चे शिक्षक का परिचय हैं.


  • हर किसी की सफलता की नींव में एक शिक्षक की भूमिका अवश्य होती हैं. बिना प्रेरणा के किसी भी ऊँचाई तक पहुंचना असम्भव हैं.


  • हम अपने जीवन के लिए माता पिता के ऋणी होते हैं लेकिन एक अच्छे व्यक्तित्व के लिए हम एक शिक्षक के ऋणी होते हैं.


  • वक्त का हर एक लम्हा शिक्षा देता हैं वास्तव में समय एवम अनुभव ही हमारे प्राकृतिक शिक्षक हैं.


  • एक सफल शिक्षक वही हैं जिसमे सहनशीलता एवम सकारात्मकता होती हैं.


  • माँ ही जीवन की वास्तविक शिक्षिका होती हैं क्यूंकि वही हमें करुण एवम आदर का भाव देती हैं. यही भाव सीखने की कला विकसित करते हैं.


  • शिक्षक स्वयम कभी बुलंदियों पर नहीं पहुँचते लेकिन बुलंदियों पर पहुँचने वालो को शिक्षक ही निर्मित करते हैं.


  • किसी महान देश को महान बनाने के लिए माता पिता एवम शिक्षक ही ज़िम्मेदार होते हैं.


शिक्षक दिवस पर व्हाट्स अप सन्देश (Teachers Day Messages in Hindi)

  • चीर अंधकार से एक शिक्षक ही बाहर निकाल सकता हैं.


  • एक शिक्षक आपको डराता हैं लेकिन इसमें भलाई छिपी होती हैं.


  • शिक्षक का व्यक्तितव एक श्री फल के समान होता हैं.


  • शिक्षक बनना सबसे बड़ा उत्तरदायित्व हैं. शिक्षा ही मनुष्य को देश भक्त या आतंकवादी बना सकती हैं.


  • एक विद्यालय का नाम अच्छे छात्रों से नहीं बल्कि बेहतरीन व्यक्तित्व वाले शिक्षकों से होना चाहिये.


  • शिक्षक के पास ही वो कला हैं जो मिट्टी को सोने में बदल सकती हैं.


  • किताबे व अनमोल वचन भी जीवन में शिक्षक की भूमिका अदा करती हैं.


शिक्षक दिवस शायरी और कविता (Teachers Day Shayari or kavita in Hindi)

वर्ल्ड टीचर्स डे 5 अक्टूबर को मनाया जाता है, इसी दिन दुनिया के 21 देश इसे बड़ी धूमधाम से मनाते है, इसके अलावा 28 फ़रवरी को दुनिया के 11 देश टीचर्स डे मनाते है।

  1. जीवन का मार्ग कठिन हैं
    सत्य का विचार कठिन हैं
    पर जो हर हाल में सत्य सिखाये
    वही एक सफल शिक्षक कहलाये

  1. चंद शब्दों में नहीं होती बयाँ
    ईश्वर के तुल्य हैं जिनकी काया
    ऐसे गुरु वर को शत शत नमन
    उनके चरणों में जीवन अर्पण

  1. शिक्षक हैं एक दीपक की छवि
    जो जलकर दे दूसरों को रवि
    ना रखता वो कोई ख्वाइश बड़ी
    बस शिष्य की सफलता ही हैं खुशियों की लड़ी

  1. कड़ी धूप में जो दे वृक्ष सी छाया
    ऐसी हैं इनके ज्ञान की माया
    नहीं होता कोई रक्त सम्बन्ध
    फिर भी हैं जीवन का अनमोल बंधन

  1. भीड़ में हैं एक गुरु ही अपना
    दिखाये जो जीवन का सपना
    पग पग पर देते वो दिशा निर्देश
    गुरु से ही सजे जीवन परिवेश

  1. ना तारीफ के शब्दों की हैं उसको चाहत
    ना महंगे उपहारों से होती उसकी इबादत
    उसे मिलती हैं तब ही आत्मीय शांति
    जब फैलती हैं विश्व में शिष्य की कान्ति

  1. सफल जीवन सजता हैं सपनो से
    जो मिलता हैं किसी गुरु की दस्तक से
    जीवन सूर्य सा प्रकाशित हो उठता हैं
    जब साथ एक सच्चे गुरु का मिलता हैं.

  1. बिन गुरु नहीं होता जीवन साकार
    सिर पर होता जब गुरु का हाथ
    तभी बनाता जीवन का सही आकार
    गुरु ही हैं सफल जीवन का आधार

  1. हर काम आसान हो जाता हैं
    जब सच्चे शिक्षक का सानिध्य मिलता हैं
    फिर कितने ही आये जीवन में उतार चढ़ाव
    शिक्षक के चरणों में ही मिलता हैं ठहराव

  1. जीवन जितना सजता हैं माता-पिता के प्यार से
    उतना ही महकता हैं गुरु के आशीर्वाद से
    समाज कल्याण में जितने माता पिता होते हैं खास
    उतने ही गुरु के कारण देश की होती हैं साख

शिक्षक दिवस दुनिया के विभिन्न देशों में कब मनाया जाता है (Teachers Day Celebrate World in Hindi)

क्रमांक देश का नाम तारीख
1. बांग्लादेश 5 अक्टूबर
2. ऑस्ट्रेलिया अक्टूबर के आखिरी शुक्रवार
3. चाइना 10 सितम्बर
4. जर्मनी 5 अक्टूबर
5. ग्रीस 30 जनवरी
6. मलेशिया 16 मई
7. पाकिस्तान 5 अक्टूबर
8. श्रीलंका 6 अक्टूबर
9. यूके 5 अक्टूबर
10. यूएसए मई के पहले हफ्ते में नेशनल टीचर वीक मनाया जाता है
11. ईरान 2 मई

भारत के महान शिक्षक | Great Teachers of India in Hindi

शिक्षक दिवस (5 सितंबर) के उपलप्क्ष में, हम भारत के उन शिक्षकों पर नजर डालने जा रहे हैं जिन्होंने भारतीय विचार और समाज पर अपना काफी प्रभाव डाला है।

सर्वपल्ली राधाकृष्णन : डॉ एस राधाकृष्णन विख्यात दार्शनिक और शिक्षाविद् के साथ-साथ भारत के दूसरे राष्ट्रपति थे। देश भर में राधाकृष्णन का जन्मदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। राधाकृष्णन मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज से दर्शनशास्त्र की मास्टर डिग्री प्राप्त करने के बाद, भारतीय दर्शन के विभिन्न स्कूलों, विशेष रूप से अद्वैत वेदांत के बारे में अनुसंधान और सिखाने का कार्य कर चुके थे। दर्शनशास्त्र में बेहतरीन पकड़ के फलस्वरूप, वह मैसूर विश्वविद्यालय, कलकत्ता विश्वविद्यालय और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में कई बार दर्शनशास्त्र/ पूर्वी धर्म के प्राध्यापक के पद पर नियुक्त किए गए। राधाकृष्णन की शिक्षा और शिक्षण के प्रति जुनून देखते हुए उनका सम्मान, प्रत्येक वर्ष 5 सितंबर को जन्मदिवस के रूप में मनाकर किया जाता है।

रामकृष्ण परमहंस : रामकृष्ण परमहंस एक पारंपरिक शिक्षक के तौर पर नहीं बल्कि, एक प्रसिद्ध हिन्दू सूफी संत और भविष्यद्रष्टा (विचारक) के रूप में भलीभाँति जाने जाते हैं। हालांकि, रामकृष्ण परमहंस को अपने अनन्त ज्ञान और स्वामी विवेकानंद जैसे महान पुरुषों को अपने आप से प्रेरित कराने की क्षमता के कारण गुरु (अध्यापक) की उपाधि प्राप्त हुई है।

स्वामी विवेकानंद : स्वामी विवेकानंद प्रसिद्ध हिंदू सूफी संत रामकृष्ण परमहंस के प्रमुख शिष्य थे। लेकिन विवेकानंद ने जिस मार्ग को अपनाया था, वह मार्ग धार्मिक सूफीवाद से हट कर था। विवेकानंद ने हिंदू धर्म, भारतीय दर्शन और धर्मशास्त्र के साथ-साथ पश्चिमी दुनिया के लिए योग की पेशकश करने में, एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

रवीन्द्रनाथ टैगोर : “गुरुदेव” रवींद्रनाथ टैगोर ने अपने साहित्यिक कार्यों और अपने द्वारा बनाए गए संगीतों के लिए काफी प्रसिद्धि प्राप्त की है। रवींद्रनाथ टैगोर ने जिस संगीत की रचना की थी, अब उसे रवींद्र संगीत के नाम से जाना जाता है।

सावित्रीबाई फुले : सावित्रीबाई फुले 19 वीं शताब्दी में लिंग संबधी भेदभाव का विखंडन करती हुई, आधुनिक भारत की सबसे प्रसिद्ध महिला अध्यापिका के रूप में जानी जाने लगी थी।

एपीजे अब्दुल कलाम : आधुनिक भारत के महान विचारकों में से एक, डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम भी देश के सबसे प्रिय राष्ट्रपतियों में से थे। कलाम के नाम कई सफलताएं हैं – कलाम एक अग्रणी अनुसंधान वैज्ञानिक होने के साथ-साथ भारतीय परमाणु प्रोग्राम के जनक और गतिशील राष्ट्रपति होने के साथ-साथ महान प्रशासक भी थे।

शिक्षक दिवस का महत्व | Importance Of Teacher’s day

अच्छा लगता हैं जब किसी योग्य व्यक्ति को सम्मानित किया जाता हैं तो. मगर क्या 5 सितम्बर के दिन मात्र भाषण, कविता पाठ और शिक्षक दिन पर गुरुजनों के लिए फूलों की माला का गुच्छा और कुछ उपहार क्या यही हैं. shikshak divas. टीचर्स डे मनाने के सही मायने क्या हैं. सच्चे अर्थो में यदि हम अपने शिक्षकों के प्रति सदा सही द्रष्टिकोण और दिल में सम्मान का भाव रखे तभी इस दिन को मनाने का महत्व सार्थक सिद्ध होगा.

इस दिन को मनाने का अर्थ तभी सार्थक सिद्ध होगा जब हमारे देश के शिक्षकों और बच्चो का शिक्षकों के प्रति नजरिया बदले. ‘सभरवाल कांड’ जैसी घटनाओं की पुनरावृति ना हो, अकसर सुनने को मिलता हैं किसी विद्यालय के शिक्षक ने छात्र को भरी कक्षा में सबके सामने कपड़े उतारे अथवा असामाजिक तत्वों द्वारा शिक्षक पर हमला इस तरह की घटनाएं हमारे समाज में शिक्षक के स्थान और उनकी मर्यादा कों धूमिल करने में कोई कसर नही छोडती हैं.

शिक्षक दिवस के दिन ही तो गुरु शिष्य के बिच का रिश्ता दिखता हैं. श्रद्धा और प्रेम जैसी मजबूत डोरों से बना रह रिश्ता सदा बरकरार रहे.

हमें अपने जीवन में शिक्षकों के मूल्यों को समझना और महसूस करना चाहिए और दिल से सम्मान के साथ शिक्षक दिवस प्रतिवर्ष मानना चाहिए। शिक्षक हमारे माता-पिता से भी बढ़ कर हैं जो हमें हमेशा सफलता की राह दिखाते हैं। वे तभी खुश होंगे और स्वयं को सफल मानेंगे जब उनके छात्र आगे बढ़ेंगे और सफलता प्राप्त करके उनका नाम पुरे विश्व भर में फैला देंगे। हमें अपने शिक्षकों से मिले सभी अच्छे सुविचारों का पालन करना चाहिए यही उनके लिए सबसे सम्मान की बात है।

शिक्षक दिवस एक माध्यम हैं जो हमें शिक्षक के प्रति अपने स्नेह को उजागर करने का अवसर देता हैं. यह दिवस एक छोटे बालक को जीवन में शिक्षक के महत्व को सिखाने का एक जरिया बनता हैं. यह दिवस ऊँचाई पर बैठे उस व्यक्ति को याद दिलाता हैं कि आज वो जहाँ पहुँचा उसका श्रेय वास्तव में किसे जाता हैं। I Love My India जय हिंद।

तो दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें! अब आप हमें Facebook पर Follow कर सकते है !  क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

“ मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है ”

You may be intrested in

A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):