A Smart Gateway to India…You’ll love it!
WelcomeNRI.com is being viewed in 121 Countries as of NOW.
A Smart Gateway to India…You’ll love it!

हवाला कारोबार किसे कहते हैं?, यहाँ ले पूरी जानकारी | What is Hawala Buisness How it Works


what-is-hawala-bussiness-in-hindi

हवाला कारोबार को जानने के लिए हवाला शब्द का मतलब जानना जरूरी है । आम बोल चाल की भाषा में हवाला देने का मतलब होता है कि किसी को कोई उद्धरण (reference) देना या जिक्र करना । उदाहरण के तौर पर लोग कहते हैं कि “उससे मिल लो” और “मेरा हवाला दे देना” आपका काम हो जायेगा । …

हवाला व्यापार क्या होता है ? | What is Hawala Transaction in Hindi

इसी प्रकार हवाला का कारोबार भी किया जाता है जिसमे बताये गए या “हवाला” दिए गए व्यक्ति को भुगतान करना या उससे भुगतान लेना शामिल होता है । इस प्रकार के व्यापार में 3 लोग अवश्य ही शामिल होते हैं ।

  1. जिससे भुगतान लेना है
  2. जिसको भुगतान देना है
  3. एजेंट, भुगतान लेने और देने वालों के बीच कड़ी का काम एजेंट करता है

हवाला लेन देन में धन अनधिकृत रूप से एक देश से दूसरे देश में विदेशी विनिमय किया जाता है । अर्थात हवाला का मतलब एजेंटों के माध्यम से धन का एक देश से दूसरे देश में हस्तांतरण किया जाता है । इस प्रकार यह पैसे के लेन देन का एक गैर कानूनी तरीका है जिसे “हुंडी” भी कहा जाता है ।

हवाला का पूरा काम इस नेटवर्क के 'विश्वास' एवं कार्यकुशलता पर आधारित होता है। हवाला का काम मुख्यत: दक्षिण एशिया, मध्य पूर्व एवं उत्तरी अफ्रीका में फैला हुआ है।

हवाला लेन देन कैसे होता है (How Hawala Transaction takes place)

भारत में एक राजनीतिक पार्टी के नेता मिस्टर नटवरलाल ने बहुत बड़ी मात्रा में काला धन कमाया है और अब वह इस काले धन को भारत में नही रखना चाहते हैं इसलिए उन्होंने इस धन को स्विट्ज़रलैंड में जमा करने का फैसला किया है । अब वह किसी तरह एक एजेंट का जुगाड़ करते हैं जो कि स्विट्ज़रलैंड में उनका बैंक अकाउंट खुलवा देता है और वहां पर रहने वाले मिस्टर माइकल द्वारा कमाया हुआ 100 करोड़ का काला धन स्विट्ज़रलैंड की मुद्रा (स्विस फ्रैंक) में ही मिस्टर नटवरलाल के खाते में जमा करा देता है ।

अब स्विट्ज़रलैंड में रहने वाले मिस्टर माइकल ने उसी एजेंट के माध्यम से भारत में अपने किसी परिचित के खाते में मिस्टर नटवरलाल से पैसा लेकर जमा करा दिया है । इस प्रकार इस हवाला कारोबार में शामिल दोनों लोगों ने अपने-अपने काले धन को सफ़ेद कर लिया है ।

ऊपर बताया गया तरीका काले धन को सफ़ेद करने का सिर्फ एक तरीका है इसके अलावा भी कई तरीकों से हवाला कारोबार होता है । इस व्यापार में स्विस फ्रैंक और भारत के रुपये के बीच की विनिमय दर का भी ध्यान रखा जाता है । हवाला कारोबार करने वाले लोग दो देशों के बीच की विनिमय दरों में होने वाले उतार-चढ़ाव का फायदा भी उठाते हैं ।

हवाला कारोबार एक देश के अन्दर भी होता है । जिसके माध्यम से विभिन्न राजनीतिक दलों और आतंकी संगठनों और नक्सली संगठनों तक रुपया पहुँचाया जाता है ।

कौन-कौन लोग हवाला कारोबार करते हैं (Who is involved in Hawala Transaction)

हवाला कारोबार करने वालों में मुख्य रूप से निर्यात व्यापार में शामिल कम्पनियाँ, बड़े बड़े कारोबारी और राजनीतिक दलों के नेता शामिल होते हैं । जो बड़े व्यापारी जो कर चोरी कर रहे हैं वे भी काला धन अर्जित कर रहे हैं । हमारे देश के बहुत सारे लोग बाहर रहते हैं, हवाला का कारोबार करने वाले उनका इस्तेमाल हवाला कारोबार करने में करते हैं ।

जैसे :- भारत में हवाला के आरोपी व्यापारी हसन अली और ललित मोदी

भारत में हवाला कारोबार का आकार (Size of Hawala Transaction in India)

गृह मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार भारत में प्रतिवर्ष हवाला कारोबार का आकार 20 से 25 अरब डॉलर का हैl भारत में सबसे अधिक हवाला का कारोबार केरल में है जो कि खाड़ी के देशों से बहुत बड़ी मात्रा में विदेश से रुपया प्राप्त करता है । एक अनुमान के अनुसार केरल में हर साल 23000 करोड़ का हवाला रुपया आता है इसके बाद दूसरे नंबर पर दिल्ली का स्थान आता है ।

कितनी सजा का प्रावधान है?

हवाला कारोबार करने वाला व्यक्ति काले धन को वैध बनाना (money laundering), विदेशी मुद्रा विनियमन अधिनियमन अधिनियम (फेरा), और अन्य कर कानूनों के उल्लंघन का दोषी माना जाता है । इसलिए हवाला को ‘अवैध रूप से कमाई गई’ रकम को ‘अवैध रूप से प्राप्त करना’ कहा जा सकता है ।

फेरा कानून के अनुसार सिर्फ अधिकृत व्यापारी के माध्यम से ही देश में या देश के बाहर मुद्रा प्राप्त की जा सकती है । फेरा के नियमों का उल्लंघन करने पर जुर्माने की राशि, हवाला कारोबार की राशि की 5 गुना तक और 7 वर्ष की सजा भी हो सकती है ।

एक अध्यन के अनुसार भारतीय अर्थ व्यवस्था में काला धन सफ़ेद धन की तुलना में ५० से १०० गुना अधिक है । का उल्लंघन कर रहें हैं और उन्हें सजा भुगतने का भी भय नहीं है । क्योंकि कानून बनाने वाले व कानून के संरक्षक उनके पीछे रहतें हैं । राजनेताओं और व्यापारियों के लिए काले धन को सफ़ेद करने व काली कमाई विदेशी बैंकों में जमा करने का यह सबसे उपयुक्त जरिया है ।

गौरतलब है कि भारतीय अर्थ व्यवस्था की तरक्की में काला धन एक बड़ा अभिशाप है। हवाला के जरिए फर्जी बिल और दूसरे फर्जी कागजात के सहारे काले धन को सफेद करने के कारोबार पांव पसारे हुए हैं। सरकार के करेंसी Demonetisation के फैसले के बाद हवाला कारोबारियों पर शिकंजा कसा जा सकेगा।

राजनीति का सबसे बदनाम शब्द

दरअसल भारतीय राजनीति ने सबसे पहले इसकी गूंज सुनी 1993 में । जनसत्ता में जून 1993 में एक स्टोरी छपी. लेकिन मामला दो साल पुराना था । 1991 में दिल्ली पुलिस ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के एक छात्र शहाबुद्दीन गोरी को जामा मस्जिद इलाके से गिरफ्तार किया । कश्मीरी आतंकवादियों को आर्थिक मदद पहुंचाने के संदेह में । मामला सीबीआई को सौंप दिया गया. इसके बाद ये मामला परत दर परत खुलता चला गया ।

हवाला का इतिहास

हवाला का इतिहास जानने से पहले आपको जैन हवाला स्कैम को नहीं भूलना चाहिए। 18 मिलियन डॉलर के इस घोटाले को अब तक सबसे बड़ा स्कैम माना जाता है। इस हवाला घोटाले में दिखया गया कि कैसे राजनेता और कारोबारी पैसों के ट्रांसफर का अवैध कारोबार करते हैं। इस घोटाले में इस बात का खुलासा हुआ कि विदेश से जिस फंड के द्वारा राजनीतिक दल को पैसा ट्रांसफर किया गया उसी चैनल के जरिए आंतकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन को भी फंड दिए गए थे। इस घोटाले में 115 राजनेता और कारोबारी के साथ कई ब्यूरोकेसी इस घोटाले में शामिल थे। हलांकि सबूते के अभाव में 1997-98 में बचकर निकल गए।

हवाला का पैसा उसे सट्टे की तरह होता है जिसमें उन्हें फायदा होगा या नहीं ये सरकार बनने के बाद ही पता चलता है। ये पैसा सरकार की नजर में नहीं होता इसलिए इसे ट्रैक कर पाना मुश्किल होता है। विदेशों से पैसे मंगवाए जाते हैं। पैसे का ट्रांसफर चुनाव से 1 महीने पहले करवाया जाता है, ताकि चुनाव आयोग में उनके अकाउंट का डिटेल न मालूम हो सके।

सारांश के रूप में यह कहा जा सकता है कि भारत में काला धन एक विकराल समस्या बन चुकी है लेकिन भारत सरकार इसके खात्मे के लिए कृत संकल्प नजर आती है । इसी दिशा में सरकार ने हाल ही में 500 और 2000 रुपये के नये नोट्स चलाये हैं ।

तो दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें! अब आप हमें Facebook पर Follow कर सकते है !  क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

Good luck

You may be intrested in

A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):